नई दिल्ली । अमेरिका ने कश्मीर घाटी में हिंसा पर चिंता जताई है। उसने भारत और पाकिस्तान से कश्मीर विवाद का शांतिपूर्ण हल खोजने का आग्रह भी किया है। अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता एलिजाबेथ ट्रुडो ने संवाददाताओं से कहा, “हम (कश्मीर घाटी में) संघर्ष से वाकिफ हैं। हम हिंसा को लेकर चिंतित हैं और सभी पक्षों को शांतिपूर्ण हल के लिए प्रोत्साहित करते हैं। ”

ट्रुडो से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पाकिस्तान में बलूचिस्तान और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की स्वतंत्रता के लिए खुला समर्थन किए जाने के बारे में पूछा गया था। उन्होंने इस विवाद में शामिल होने से इनकार कर दिया और कहा कि अमेरिका ने कश्मीर पर अपनी स्थिति नहीं बदली है। यह हमेशा दो देशों के बीच द्विपक्षीय मुद्दा रहेगा।

ट्रुडो ने अपने रोजमर्रा के विवरण में सोमवार को कहा, “हमारी स्थिति कश्मीर पर नहीं बदली है। दोनों पक्षों के कश्मीर पर विचार विमर्श से ही शांति की गुंजाइश बन सकती है।

उन्होंने कहा, “हम भारत और पाकिस्तान के बीच घनिष्ठ संबंधों के लिए किसी भी सकारात्मक कदम का समर्थन करते हैं।”आतंकी बुरहान वानी को 8 जुलाई को मारे जाने के बाद से ही कश्मीर घाटी तनाव में है। पांच हफ्तों से चल रही अशांति में 65 लोग मारे जा चुके हैं।