उत्तराखण्ड के किसानों के लिए खुशखबरी, जनवरी 2018 में मुख्यमंत्री कामधेनु डेयरी योजना की शुरुआत

224

देहरादून: उत्तराखण्ड में दुग्ध उत्पादन को बढ़ाने पर काफी जोर दिया जा रहा है। भाजपा सरकार के गठन के बाद से  दुग्ध उत्पादन को बढ़ाने का प्रयास कर रही है। सीएम त्रिवेंद्र रावत कई बार राज्य सरकार को किसानों की सरकार कह चुके है। अब दुग्ध बढोतरी के विषय में रग रोड स्थित किसान भवन में डेयरी फेडरेशन के वार्षिक सामान्य निकाय अधिवेशन में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कुछ अहम बाते की।प्रदेश के बाहरी राज्यों से गाय की खरीद की जा सकती है। दुग्ध व्यवसाय के लिए हमेशा अच्छा बाजार मूल्य उपलब्ध रहता है।  अधिक दुग्ध उत्पादन से जहा किसानों की अच्छी आमदनी होगी, वहीं नई पीढ़ी को उत्तम दुग्ध उत्पादों से स्वास्थ्य लाभ भी मिलेगा।

Image result for cm trivendra singh rawat cow

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि पशु आहार में प्रति कुंतल 80 रुपये की कमी की जाएगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने गंगा-गाय योजना के तहत दो महिला पशुपालकों को गाय भेंट कीं और दो महिलाओं को गाय खरीदने के लिए 40-40 हजार रुपये के चेक प्रदान किए। कार्यक्रम में उन्होंने उत्तराखंड सहकारी फेडरेशन लिमिटेड की पत्रिका का विमोचन  किया। डेयरी विकास मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने बताया कि पिछले नौ माह में प्रदेश में दुग्ध उत्पादन प्रतिदिन एक लाख नौ हजार लीटर से बढ़कर सवा दो लाख लीटर तक हुआ है। उन्होंने कहा कि जनवरी 2018 में मुख्यमंत्री कामधेनु डेयरी योजना की शुरुआत की जाएगी। किसान कल्याण योजना के तहत 22 हजार किसानों ने पशुपालन के लिए ऋण लिया है। यह आने वाले समय में दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के लिए अच्छे संकेत हैं। इस मौके पर दुग्ध फेडरेशन के अध्यक्ष राजबीर सिंह, यूसीएफ के चेयरमैन घनश्याम नौटियाल आदि मौजूद रहे।