नई दिल्ली: एक तरफ सरकार गोवा के पर्यटन को बढ़ावा देने की बात करती है। सैलानियों को न्योता दिया जाता है लेकिन उनके ही एक मंत्री के विवादित बयान ने कुछ लोगों की भावनाओं के ठेस पहुंचाया है। गोवा के शहरी और देश नियोजन मंत्री विजय सरदेसाई ने उत्तर भारत के पर्यटकों को धरती पर गंदगी करार दिया है। उन्होंने कहा कि इस जगह के पर्यटक गोवा को हरियाणा बनाने में तुले हुए हैं। उनका ये विवादित बयान बिज फेस्ट में आया। विजय ने कहा, ‘आज गोवा की आबादी पर्यटकों के रूप में लगभग छह गुना है। ये पर्यटक धरती पर गंदगी हैं।’

अपने संबोधन में विजय ने उत्तरी भारत पर्यटकों को भारी बाढ़ जैसा करार दिया। उन्होंने कहा कि हम गोवा को दूसरा गुरुग्राम नहीं बनने देना चाहते। मंत्री ने कहा, ‘गोवा में आज जो भी समस्या है उसके लिए उत्तर भारतीय राज्य जिम्मेदार हैं। इन राज्यों से आने वाले लोग वास्तव में गोवा को हरियाणा बनाना चाहते हैं।’

मंत्री विजय सरदेसाई ने सरकार की सस्ती घरेलू पर्यटन पॉलिसी को भी आड़े हाथ लेते हुए आलोचना की। विजय ने कहा कि सरकार की पॉलिसी की वजह से ही राज्य में 1.2 करोड़ टूरिस्ट आ जाते हैं। उत्तर भारत से आने वाले पर्यटक गोवा में गंदगी और सफाई के मुद्दे को और मुश्किल बना रहे हैं।

वहीं बीचों और शहरों में बढ़ रहे कचरे की समस्या को उजागर करते हुए मंत्री ने कहा कि जब से गोवा आने वाले पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है, उन्हें साफ-सफाई रखने के लिए शिक्षित और नियंत्रित नहीं किया जा पा रहा है। हमें ऐसे कानून लाने की जरूरत है जो आपको टैक्स देने, जुर्माना देने और कानून का पालन करने के लिए मजबूर कर देंगे। मंत्री विजय की तरफ से आए बयान पर किसी ने कोई टिप्पणी नहीं की है लेकिन ये बयान विवाद पैदा कर सकता है।