हल्द्वानी: नये साल से पहले वित्तमंत्री प्रकाश पंत शुक्रवार की देर रात गौलापार स्थित नेशनल एसोशिएशन फार द ब्लाइन्ड (नैब) पहुंचे। उन्होंने नैब में अध्ययनरत बच्चों के बीच कुछ समय बिताया और वही नैब में अध्ययनरत संस्था के 108 दिव्यांग बच्चो को सर्दी से बचने के लिए स्वेटर, ऊनी टोपिंया और मौजे उपहार स्वरूप भेंट किये। अपने बीच मंत्री पंत को पाकर और उनके द्वारा दी गई सौगात से बच्चे अभिभूत और प्रशंन्न नजर आये। उन्होंने मंत्री प्रकाश पंत के स्वागत में गीत भी प्रस्तुत किये।
इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में अपने सम्बोधन मे वित्तमंत्री पंत ने कहा कि बच्चो से रिश्ता रखना सीधे ईश्वर से जुड़ने का रास्ता है। बच्चा कोई भी हो अगर हम उसके चेहरे पर मुस्कराहट ला सके तो समझना चाहिए कि हमारा ईश्वर सीधा साक्षात्कार हुआ है। उन्होने कहा कि देश के प्रधानमंत्री द्वारा दिव्यांग शब्द देकर अशक्त लोगो को जो सम्मान दिया है वह प्रशंसनीय है। उन्होंने कहा कि दिव्यांग लोगो के पास कुदरती शक्तिया होती है जिससे वह आसानी से देख,सुन,पढ एवं लिख सकते है। उन्होंने कहा कि हमें दिव्यांगो का सहारा बनते हुये इंसानियत का परिचय देना चाहिए।
अपने सम्बोधन में अध्यक्ष दुग्ध संघ  भरत सिह नेगी ने बताया कि बीते समय उनके द्वारा अपने साथियों के साथ वित्त मंत्री प्रकाश पंत का जन्मदिन नैब के बच्चो के साथ मनाया था। गणमान्य लोगो एवं दुग्ध संघ की ओर से इन  बच्चों के लिए उपहार सामग्री जुटाई गयी है। बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए हमें इस प्रकार का सहयोग करना चाहिए।
कार्यक्रम में प्रवक्ता डा0 अनिल कपूर डब्बू, सांसद प्रतिनिधि डॉ वारसी, नैब के डाइरेक्टर श्याम धानिक के अलावा राज भटट, ग्राम प्रधान गणेश फौजी, त्रिलोक सिह नौला के अलावा दिनेश खुल्वे, राजेन्द्र तिवारी, कमलेश कुनियाल, सोनू जोशी, प्रेम बल्लभ जोशी, आनसिह खनी, बालम विष्ट, बसन्त आर्य, जमन बर्गली, शेखर संम्भल, नन्दन बोरा, रंजीत रावत व क्षेत्र के गणमान्य नागरिक मौजूद थे।