जोशीमठ : 40 लाख रुपये खर्च लेकिन पुल का नामोनिशां तक नही

54

हल्द्वानी : पुल निर्माण तो छोड़िए 40 लाख रुपये खर्च हो गए, लेकिन आज तक एक पत्थर तक नहीं लगा है । यह वाक्या है जोशीमठ तहसील का जहां ग्रामीणों ने यह शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने बताया कि ऋषि गंगा पर झूला पुल निर्माण के लिए वर्ष 2005 में स्वीकृति मिली थी। लोनिवि ने ठेकेदार को 40 लाख रुपये का अग्रिम भुगतान भी कर दिया, लेकिन पुल आज तक नहीं बना। प्रभारी जिलाधिकारी विनोद गोस्वामी ने अधिशासी अभियंता को पुल निर्माण को तत्काल कदम उठाने के निर्देश दिए। तहसील दिवस में कुल 25 शिकायतें दर्ज की गई। जिलाधिकारी ने कहा कि शिकायतों के निस्तारण में किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी।

गांव के ग्रामीणों ने मारवाड़ी-थैंग मोटर मार्ग पर कार्य मानकों के अनुसार न किए जाने की शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने कहा कि किलोमीटर एक से तीन किलोमीटर तक सड़क का ग्रेड एवं एलाइंमेंट बहुत खराब है। देवग्राम निवासी बख्तावर सिंह रावत ने ल्याटी-कल्पेश्वर मोटर मार्ग निर्माण कार्य बहुत धीमी गति से किए जाने संबधी शिकायत दर्ज की। उन्होंने बताया कि देवग्राम के नोट गदेरा पर बने पुल के नीचे का पुश्ता विगत दो-तीन साल से क्षतिग्रस्त होने की शिकायत की। भ्यूडार की ग्राम प्रधान विजया देवी ने विगत वर्ष में क्षतिग्रस्त गोविंदघाट-पुलना मोटर मार्ग को सही करने, घांघरिया व पुलना में घोड़ा स्टैंड का निर्माण कराने तथा क्षतिग्रस्त पुलना पेयजल योजना की मरम्मत का कार्य शीघ्र पूरा कराने की मांग रखी।

खीरों गांव की प्रधान गुलाबी देवी ने खीरों मल्ला व तल्ला दोनों तोकों का विद्युतीकरण कराने की मांग की। व्यापार मंडल जोशीमठ के सचिव अमित सती ने बताया कि जोशीमठ अस्पताल में एक्स-रे मशीन का ऑपरेटर न होने के कारण मशीन का लाभ मरीजों को नहीं मिल रहा है।इसके अलावा भी अन्य लोगों ने अपनी शिकायतें बताई ।

तहसील दिवस के अवसर पर ब्लाक प्रमुख जोशीमठ प्रकाश रावत, उप जिलाधिकारी योगेंद्र सिंह, परियोजना निदेशक प्रकाश रावत, सीएचओ नरेंद्र यादव, बीडीओ रमेश चंद्र आदि  अधिकारी मौजूद थे।