नई दिल्ली: डिलीवरी या प्रसव के बाद माँ के शरीर में कमजोरी आ जाती है। साथ ही माँ के ऊपर अपने बच्चे का भी भार रहता है। इसलिए यह जरुरी होता है की प्रसूति माँ और उसके बच्चे के स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए उनके खान पान पर विशेष ध्यान दिया जाए। ताकि प्रसव के बाद आयी कमजोरी को दूर किया जा सके। इस विषय में हल्द्वानी स्थित साहस होम्योपैथिक के डॉक्टर नवीन चंद्र पांडे ने कहा कि इन तरह की कमजोरी का ध्यान रखना जरूरी होता है नहीं तो उम्र बढ़ने के साथ ये बीमारी का रूप ले लेती है। शिशु के जन्म के बाद कुछ रक्तस्त्राव, असहजता और थकान होना सामान्य है। इससे उबरने के लिए आपको स्वयं थोड़े प्रयास करने की जरुरत है। उन्होंने उस विषय में महिलाओं के लिए कुछ होम्योपैथिक दवाओं के नाम बताएं जो उन्हें कमजोरी से लड़ने में खासा मदद कर सकती है। उन्होंने कहा इन दवाओं के ऩियम अनुसार सेवन से कमजोरी खत्म हो सकती है।