डेंगू की चपेट में हल्द्वानी, तीन मौत, लेकिन सरकारी रिकॉर्ड में आंकडा शून्य

हल्द्वानी: सर्द में मछरों का प्रकोप कम हो जाता है ऐसा लोगों को लगता था लेकिन हल्द्वानी समेत कुमाऊं में हालात बिल्कुल अलग है। शहर में डेंगू ने अपने प्रकोप तेज़ कर दिया है। डेंगू से मरने वालों की संख्या नैनीताल जिले में 5 हो गई है। इन सभी के बीच विभाग कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा है। हैरानी भरी बात ये है कि जिले के सरकारी रिकॉर्ड में डेंगू के कारण मौत का आंकड़ा शून्य है। इस बात की पुष्टि खुद जिला मलेरिया रोकथाम अधिकारी एएस राणा ने की है।  लेकिन हालात नाजुक स्थिति में पहुंच गए है। जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या 195 पहुंच गई है।

विभाग की लपारवाही का आलम ये हा कि अभी तक डेंगू गस्त इलाकों में फॉगिंग नहीं हुई है। हल्द्वानी के आदर्शनगर, लालकुआं,आजादनगर और पीलीकोठी में डेंगू का लारवा और प्यूपा मिले है।

इस मामले में सीएमओं नैनीताल डॉ एचके जोशी ने कहा कि डेंगू के कारण हुई मौत के बारे में सूचना नहीं है। अगर ऐसा है तो तुरंत जांच की जाएगी। वहीं डीएम दीपेंद्र चौधरी ने प्राइवेट हॉस्पिटलों से रोज डेंगू के कारण भर्ती हो रहे मरीजों की रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए है। डेंगू के कारण हल्द्वानी शहर में तीन मौत के मामले सामने आए है।

 

 

न्यूज सोर्स- हिन्दुस्तान