नैनीताल। कई बार कुछ एेसा होता जिसकी आप कभी कल्पना भी नही करते । ऐसा ही कुछ नैनीताल अपनी पत्नी के साथ घुमने आए मेरठ के सुमित राठौर के साथ। दरअसल सुमित जिस होटल में रुके थे वहां सुबह 4.30 बजे गुलदार आ गया। कमरें में जब सुमित ने कुछ आवाज सुनी तो वो उठ गए। सुमित और पत्नि शिवानी ने जब गुलदार को अपने कमरे में देखा तो वो सकते में आ गए। सुमित के सामने अपनी पत्नि और अपनी जान बचाने की चुनौती थी। जब गुलदार कमरे में था तो सुमित पत्नि कंबल में ओढकर छुप गए। उसके बाद जब गुलदार जब बाथरूम में घुसा तो सुमित ने समझदारी दिखाते हुए दल्दी से उसको लॉक कर दिया। उसके बाद वो पत्नी शिवानी के साथ होटल के बाहर आ गए। सुमित ने उसके बाद इस बात की सूचना होटल प्रबन्धक को दी । होटल वालों ने फिर वन विभाग को इसके बारे में सूचना दी। सुमित के अनुसार गुलदार कमरा शिशा तोड़कर अंदर आया,जिसकी आवाज़ होने के कारण वो उठ गए।

घटनास्थल पर पहुंच कर वन विभाग ने अापरेशन गुलदार शुरू किया। वन विभाग के कर्मियों ने गुलदार को भागने का मौका ना देते हुए बाथरूम के रोशदान के एक हिस्से को बंद कर दिया। उसके बाद वन विभाग की टीम 7 बजे के करीब वन जीवों को ले जाने वाला वाहन और जाल ले कर पहुंचे। उन्होंने होटल के भाग में जाल बिछाया और फिर बंद की गई खिड़की से ट्रैंक्युलाइजर गन की मदद से गुलदार को बेहोश करने के लिए निशाना साधने की कोशिश की गई, लेकिन गुलदार दूसरी रोशनदान से बाहर निकल जंगल की ओर जाने में सफल रहा।

 

इस घटना और मौत को करीब से देखने वाले सुमित ने बताया कि वो अपने जीजा अरुण और भाई अमित के साथ नैनीताल घुमने आए हुए थे। उन्होंने कहा कि पत्नि शिवानी गुलदार को देखकर डर गई थी और वहां अगर मै हिम्मत नही दिखाता तो शायद हम जिंदा ना बच पाते।