पिथौरागढ। उत्तराखण्ड बारिश की चपेट में है। बारिश ने जनजीवन को पूरी तरह से बाधित कर दिया है। एक जुलाई को पिथौरागढ़ में बादल फटने से गायब चल रहे 9 स्थानीयों को मृत घोषित कर दिया है। पिथौरागढ़ जिले में बादल फटने से कुल 23 लोगों की मौत हो गई थी। उसके बाद से गायब चल रहे लोगों को खोजने के लिए टीम भी गठित की गई थी। डीडीहाट से एसडीएम संतोष कुमार पांडे के अनुसार लापता चल रहे लोगों को खोज रही टीम ने अपनी रिपोर्ट डीएम एच.सी सेमवाल को सौंप दी है। डीएम एच.सी सेमवाल ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि यह एक दुखद घटना है और सरकार ने मुआवजे के तौर पर मृतकों और घायल हुए लोगों के परिवार के लिए कुल 2.82 करोड़ रुपए की राशि दी है। इस रकम को बराबर बांटकर दे दिया गया है। उन्होंने बताया कि बारिश के कहर ने एक बार 16 जून 2013 की याद दिला दी है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बारिश के कारण खराब  हुए मार्गों की मरमत भी चालू है लेकिन बारिश के कारण काम अभी पूरा नही हो सका है।