ट्रैफिक नियम तोड़ा तो पुलिसकर्मी ने काटा चालान, DGP अनिल रतूड़ी गर्व से बोले वेल डन

देहरादून:क्या कोई सोच सकता है कि राज्य के डीजीपी का कोई कर्मी चालान कर सकता है? नहीं ना ? ऐसा ही कुछ हुआ है उत्तराखण्ड के डीजीपी अनिल रतूडी के साथ। सिटी पेट्रोल यूनिट (CPU) ने रविवार को डीजीपी अनिल रतूडी की  प्राइवेट कार का चालान काट दिया। डीजीपी अनिल रतूड़ी ने सादगी का परिचय देते हुए तुरंत इस चालान का भुगतान किया और सीपीयू कर्मी को शाबासी दी। उन्होंने सिफारशी और रसूखदार लोगों के लिए मिसाल कायम की। मामला रविवार दोपहर करीब सवा दो बजे डीजीपी अनिल रतूड़ी अपनी की प्राइवेट कार राजपुर रोड स्थित दिलाराम से गुजर रहे थे। इस दौरान प्राइवेट कार (जिसे DGP की बताई जा रही है) दिलाराम चौक स्थित सिग्नल पर वाइट लाइन क्रॉस कर गई और वह तैनात सीपीयू कर्मी की नज़र में आ गई। ड्यूटी पर तैनात सब इंस्पेक्टर अशोक डंगवाल और सिपाही अर्जुन सिंह डीजीपी के कार की रोक रिकॉर्डिंग शुरू कर दी।

जब  अनिल रतूड़ी कार से बाहर आ गये तो सिपाही और दरोगा के होश उड़ गये। इधर डीजीपी रतूड़ी ने पद का रसूक न दिखाते हुए चालान का जुर्माना सिपाही के हाथ में दे दिया।सिपाही ने कार MV एक्ट की धारा 177 का चालान काट 100  रुपये सरकारी खाते में जमा कर दिए।इस पूरे मामले पर DGP अनिल रतूड़ी से उनका पक्ष जानने के लिए सम्पर्क किया गया लेकिन संपर्क नहीं हो सका। बहरहाल रविवार दोपहर हुई इस घटना के बाद पुलिस महकमे में डीजीपी की सादगी को लेकर जमकर चर्चा हो रही है। आपको बता दें कि अनिल रतूड़ी बेहद सरल स्वभाव और साधारण तरीके से रहने वाले डीजीपी हैं। इतना ही नहीं DGP रतूड़ी की पत्नी राधा रतूड़ी भी आपने कार्यकुशला और सादगी के लिए पूरी अफसरशाही में अलग से पहचानी जाती हैं।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now