नई दिल्ली: देश में सबसे ज्यादा लोगों को रोजगार देने वाला भारतीय रेलवे कुछ कड़े फैसले करने वाला है। इस क्रम में करीब 13 हजार लोग मुश्किल में पड़ने वाले हैं। भारतीय रेलवे  13 हजार से ज्यादा कर्मचारियों को नौकरी से निकालने जा रहा है। रेलवे उन कर्मचारियों पर अपनी तलावर चला रहा है जो लंबे अरसे से नौकरी नहीं कर रहे है और छुट्टी पर है। ऐसे कर्मचारियों की छुट्टी करने क जिम्मा खुद रेलमंत्री पीयूष गोयल ने लिया है। उन्होंने इसके खिलाफ बकायदा एक अभियान चलाया है। इससे रेलवे में हड़ंकप मच गया है। बता दें कि अभी 13 लाख में से 13 हजार कर्मचारी फिलहाल चिह्नित हुए हैं।

Image result for रेलवे करेगा 13 हजार कर्मचारियों की छुट्टी

रेलवे की तरफ से आए बयान में भी इस अभियान की पुष्टि हुई है। जिसमें कहा गया है कि लंबे समय से अनुपस्थित चल रहे ऐसे कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय नियमों के तहत अनुशासनात्मक कार्रवाई चल रही है।’ रेलवे की ओर से कहा गया है कि सभी अधिकारियों और पर्यवेक्षकों को चिन्हित कर्मचारियों को उचित प्रक्रिया के तहत बाहर करने का निर्देश दिया गया है।

Image result for पीयूष गोयल

दरअसल रेलवे में वैसे ही स्टाफ की भारी कमी है, ऊपर से जो कर्मचारी हैं, उनमें भी ज्यादातर तमाम ड्यूटी नहीं करते। रेलमंत्री पीयूष गोयल को ऐसी तमाम शिकायतें मिल रहीं थीं। ज्यादातर कर्मचारी बगैर सक्षम स्तर से अनुमति लिए नौकरी से गैरहाजिर चल रहे थे। कुछ कर्मचारी तो अपने रसूख के दम पर ड्यूटी नहीं करते थे, मगर सेलरी भी ले रहे थे। जब पीयूष गोयल ने रेल मंत्री का चार्ज संभाला तो उन्होंने सबसे पहले मानव संसाधऩ को दुरुस्त कर सौ प्रतिशत इसके उपयोग पर जोर दिया। जिसके क्रम में उन्होंने सभी जोन को निर्देश दिया कि वे अभियान चलाकर नकारा कर्मचारियों को चिह्नित कर लिस्ट तैयार करें। फिर उनके खिलाफ चार्जशीट तैयार कर उचित प्रक्रिया का इस्तेमाल कर नौकरी से बाहर करें। ताकि रेलवे ऐसे कर्मचारियों का बोझ उठाने से बचे।