नई दिल्ली। म्यांमार के पश्चिमोत्तर सागेंग क्षेत्र की दो बस्तियों के सुदूरवर्ती गांवों में अज्ञात बीमारी से 38 लोगों की मौत हो गई। स्वास्थ्यकर्मियों ने बताया कि लाहेल के हटानखावलामा गांव में इस बीमारी से 25 लोगों की मौत हो गई। इस बीमारी के लक्षणों में बुखार, खांसी, सिर दर्द, पेट में दर्द और शरीर पर लाल चकत्ते पड़ना है। मृतकों की उम्र 12 साल से कम है।

यांगून की राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रयोगशाला में कराए गए रक्त के नमूनों की जांच से पता चला है कि तीन मरीजों को खसरा था। माना जा रहा है कि यह बीमारी में क्षेत्र में महामारी के स्तर पर तक फैल गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस बीमारी की रोकथाम के लिए टीकाकरण शुरू कर दिया गया है।

एक अन्य घटना क्षेत्र के नान्यून कस्बे की है, जहां 13 लोगों की मौत हो गई। इनमें भी अधिकांश बच्चे हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञ जुलाई के मध्य से फैली इस बीमारी का हल ढूंढ़ने की दिशा में जांच कर रहे हैं।