नई दिल्ली। रियो ओलंपिक में भारत की उम्मीदों को झटका लगा है।  भारत के स्टार कुश्ती पहलवान योगेश्वर दत्त  65 किग्रा भार वर्ग के मुकाबले में मंगोलिया के पहलवान मंदाखनरान ने 3-0 से हरा गए है। योगेश्वर से पूरे देश के साथ उनकी परिवार को भी काफी उम्मीद। योगेश्वर की हार की खबर  सुनते ही उनकी मां बेहोश हो गई। अच्छी बात ये है कि प्राथमिक उपचार के बाद उनकी हालत स्थिर है। अपने बेटे से गोल्ड मेडल की उम्मीद लगाए बैठी मां बेटे की हार सहन नही कर पाई। बता दें कि कुश्ती में योगेश्वर दत्त अपना पहला मुकाबला हार गए है। लेकिन अभी उनके कांस्य पदक जीतने की उम्मीद जिंदा है। मंगोलिया खिलाड़ी मंदाखनारान गैंजोरिग फाइनल में पहुंच जाते हैं तो  योगेश्‍वर को कांस्‍य पदक के लिए खेलने का मौका मिल सकता है।  और योगेश्वर  को रेपेचेज़ मुक़ाबले में भारत के लिए पदक जीतने का मौका होगा। योगेश्वर दत्त भारत की ओलंपिक में सबसे बड़ी उम्मीदों में थे। पूरे देश को गोल्ड की उम्मीद थी औऱ पूरे देश में उनकी जीत के लिए हवन और पूजा भी की गई। योगेश्वर की मां को उनकी जीत की पूरी उम्मीद थी लेकिन ऐसा नहीं हो सका। अब पूरा भारत मंगोलिया खिलाड़ी मंदाखनारान गैंजोरिग के फाइनल में पहुंचने की दुआ करेगा ताकि योगेश्वर को पदक जीतने का मौका मिले।