नई दिल्ली। भारतीय हॉकी टीम से फैंस को रियो ओलंपिक से काफी उम्मीद है और उसी उम्मीद को अपनी जीत का मंत्र बनाते हुए टीम इंडिया ने  आयरलैंड को  3-2 से हराते रियो ओलंपिक का शानदार आगाज किया। रियो ओलंपिक शुरू होने से पहले एक बार फिर विवाद भारतीय टीम के साथ जुड़ गया था लेकिन केवल जीत हासिल करने के लिए मैदान में उतरे भारतीय खिलाड़ियों ने विवाद को पीछे छोड़ते हुए दमदार जीत हासिल की।भारत की ओर से रूपिंदर पाल सिंह ने दो और ड्रैग फ्लिकर वी आर रघुनाथ एक गोल दागा। मैच की शुरुआत से भारतीय टीम ने आक्रमक खेल का नमूना पेश किया। जिनका फायदा उन्हें  मैच के 15वें मिनट में मिला जब ड्रैग फ्लिकर वी आर रघुनाथ ने पेनाल्टी कॉर्नर के जरिए गोल दागकर भारत को 1-0 की बढ़त दिला दी। इसके 12 मिनट बाद रूपिंदर के गोल ने भारतीय टीम की खुशी और बढ़त दोनों दोगुनी कर दी।  हॉफ टाइम तक  बढ़त 2-0 से भारत के पक्ष में थी।

उसके बाद आयरलैंड ने मैच में वापसी करने की कोशिश की और जान जेर्मिन ने 45वें मिनट में गोल कर स्कोर 1-2 कर दिया लेकिन आयरलैंड की यह खुशी ज्यादा देर तक नहीं टिक सकी।क्योंकि रूपिंदर ने 49वें मिनट में अपना दूसरा गोल कर स्कोर लाइन को 3-1 कर दिया। रूपिंदर का भारत के लिए यह 57वां अंतरराष्ट्रीय गोल था। स्कोर के 3-1 होने के बाद आयरलैंड की वापसी की उम्मीदों पर पानी फिरने लगा था। ।आयरलैंड भी अपने हथियार डालने के मूड में नही थी और कोनर हार्ते ने मैच के खत्म होने से पहले  56वें मिनट में गोल कर स्कोर लाइन को 2-3 कर दिया।। अंतिम समय में मैच और रोमांचक हो गया ।लेकिन आयरलैंड भारतीय रक्षापंक्ति को भेद नही पाई और मुकाबला 3-2 से भारत के पक्ष में रहा। भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने इससे पूर्व वर्ष 2000 के सिडनी ओलंपिक का जीत के साथ आगाज़ किया था।