नई दिल्ली। भारत के लिए 18 अगस्त रियो ओलंपिक के लिहाज से काफी अच्छा रहा। सुबह साक्षी मलिक ने कांस्य जीता वो वही रात को पीवी सिंधु ने फाइन में पहुंचकर अपना पदक पक्का कर लिया। बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने महिला एकल वर्ग के फाइनल में जगह बना ली है और अब भारत के बैडमिंटन में ओलंपिक में पहली बार स्वर्ण पदक हासिल करने की उम्मीद भी जग्ग गई है। सिंधु और जापान की निजोमी ओकुहारा के बीच रियोसेंटर पवेलियन-4 में खेले गए सेमीफाइनल मैच में सिंधु ने विरोधी खिलाड़ी को  सीधे सेटों में 21-19, 21-10 से जीत हासिल करते हुए फाइनल का में जगह पक्की कर ली। लेकिन फाइनल में सिंधु की राह मुश्किल रहने वाली है क्योंकि वहां उनकी भिड़त दुनिया की नंबर एक खिलाडी स्पेन की कैरोलिना मारिन से होगा। मगर सिंधु के मैच गंवाने की स्थिति में भारत की झोली में रजत पदक आ जाएगा।जो भारत का ओलम्पिक इतिहास का बैडमिंटन में पहला रजत पदक होगा।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सिंधु की जीत पर खुशी जाहिर करते हुए  ट्वीट कर पीवी सिंधु को जीत की बधाई दी।

सिंधु ने मुकाबले की शुरूआत से ही आक्रमक खेल का नमूना पश किया। और बढ़त के साथ ही उनके खेल में काफी निखार आने लगा । मैच के कुछ ही मिनट में  सिंधु ने जबरदस्त प्रदर्शन किया और 10-6 की बढ़त ले ली। ओकुहारा ने सिंधु पर दवाब बनाने की काफी कोशिस की लेकिन उन्हें सफलता नही मिली। सिंधु ने पहले सेट को 21-19 से अपने पक्ष में कर लिया। दूसरे सेट में हालांकि सिंधु एक वक्त  0-3 से पिछड़ गई थी लेकिन शानदार वापसी करते हुए दुनिया की नंबर 10वीं खिलाड़ी सिंधु ने पहले 5-5 से और 10-10 से बराबरी की। उसके बाद  चौंकाने वाली वापसी की और लगातार 11 अंक हासिल करते हुए सिंधु ने  21-10 से मैच को भारत की झोली में डाल दिया।