लालकुआं:पति द्वारा किये जा रहे उत्पीड़न से निजात दिलाने की मांग को लेकर दो बच्चों की मां कोतवाली जा पहुँची। महिला का कहना था कि उसका पति पहली पत्नी के इशारों पर उसका उत्पीड़न कर उसे व बच्चों के लिए राशन पानी की तक व्यवस्था नही कर रहा है। महिला ने पुलिस से न्याय दिलाने की मांग की।

सेंचुरी पेपर मिल की न्यू कालोनी में रहने वाली आनन्दी देवी पत्नी कृष्णपाल यादव सोमवार को अपने दो बच्चों के साथ कोतवाली पहुँच गई। जहां पर उसने अपने पति पर पहली पत्नी के इशारों पर उत्पीडन व अनदेखी का आरोप लगाया है। बागेश्वर के मंडलसेरा निवासी आनन्दी देवी के अनुसार पहले पति की मौत के बाद वह अपनी एकमात्र पुत्री के साथ बिंदुखत्ता में अपनी ताई के वहां आकर रहने लगी। वर्ष 2010 में सेंचुरी में काम करने वाला कृष्णपाल यादव व उसकी पत्नी उसकी ताई के वहा आये। जहां पर उन्होने बताया कि शादी के कई साल बाद भी उनका बच्चा नही हो रहा है। उन्होने आनन्दी के सामने शादी का प्रस्ताव रखा। परिजनों की रजा बंदी के बाद पंचो की मध्यस्थता में केपी यादव के साथ उसका विवाह हो गया। जिसके बाद कुछ समय तक सब ठीक ठाक चलता रहा। इस दौरान उनका एक लड़का भी पैदा हो गया। लेकिन अचानक केपी यादव आनन्दी से दूरी बनाने लगा। वह उसको खर्चा देना तो छोड़ राशन पानी की भी व्यवस्था भी नही करता था। उसकी पुत्री पूजा नौ व पुत्र अमित पांच वर्ष का हो गया है। राशन कार्ड व अन्य दस्तावेजों के ना होने के कारण उसका सरकारी स्कूल में भी नाम नही लिख पा रहा है। पति कई कई महीनों तक घर नही आता है। फोन करने पर वह और उसकी पहली पत्नी उसे डराती व धमकाती है। आस पास से मांगकर बच्चों का भरण पोषण करने में आनंदी को दिक्कत आने लगी तो उसने पुलिस की शरण ली।

जहां पर उसने बताया कि उसके पति ने अभी तक किसी दस्तावेज में उसको पत्नी का दर्जा नही दिया है। और ना ही बच्चों के भरण पोषण की व्यवस्था ही करता है। कुछ कहने पर मारने पीटने पर उतारू हो जाता है। कोतवाली के उपनिरीक्षक देवेन्द्र सिंह ने बताया कि महिला की तहरीर पर जांच शुरू कर दी है।