जब कोई अपना सा बिना बताये घर के अन्दर आ जाता है ! वो होता है प्यार

जब कोई अपने सारे दर्द कह कर चुप हो जाता है ! वो होता है प्यार !

जब कोई आपकी हर पल मौजूदगी चाहता है ! वो होता है प्यार !

कोई बिना पूछे आपको कहीं ले जाता है ! वो होता है प्यार !

जब कोई हक के साथ नाराजगी जाहिर करता है ! वो होता है प्यार !

भूख से भी ऊपर खा के, खाना अच्छा नही था कहता है ! वो होता है प्यार !

सब कुछ जान कर भी नादान बनता है ! वो होता है प्यार !

खुला छोड़ देने पर भी जो गिरफ्त में रहता है ! वो होता है प्यार !

इतने पर भी जो ये कहता या कहती है कि मै तुमसे प्यार नही करता या करती ! वो होता है प्यार !

ये तो मन के भाव हैं सारे ! कोई कैसे जाहिर करता है ! कोई कैसे जाहिर करता है !