वीडियो: मेरे बेटे की मौत के जिम्मेदार हैं पीएम मोदी- शहीद जगदीश परोहित के पिता

देहारदून: उत्तराखंड के वीर जवान जगदीश परोहित ने देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। जम्मू कश्मीर में आंतकियों से लोहा लेते वक्त जगदीश परोहित शहीद हो गए। दरअसल रविवार को जम्मू कश्मीर के राजौरी में आतंकियों ने अचानक गोलीबारी शुरू कर दी थी। भारतीय सेना ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया। इस मुठभेड़ में जगदीश परोहित बुरी तरह से घायल हो गए।  उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया लेकिन वहां उन्होंने दम तोड़ दिया। जगदीश ने देश के लिए भारतीय सेना में रहते हुए 15 सालों तक सेवा की। उनके पिता राम प्रसाद पुरोहित भी भारतीय सेना में रह चुके है। पिता ने 1972 की लड़ाई में भी हिस्सा लिया है। शहीद का पार्थिव शरीर हेलीकॉप्टर से गोपेश्वर के स्टेडियम पहुंचाया गया और  शनिवार सुबह उनका अंतिम संस्कार हुआ। जगदीश का पूरा परिवार  पूरा परिवार गंडासू में रहता है। शहीद जगदीश का एक ढ़ेड साल का बेटा और 5 साल की बेटी है। शहीद की पत्नी बच्चों के साथ गोपेश्वर में रहती है।

 

जगदीश की मौत के बाद पूरे गांव में मातम छा गया है। पिता राम प्रसाद पुरोहित ने अपने बेटे की मौत का जिम्मेदार पीएम मोदी को करार दिया। उन्होंने कहा कि मेरे जैसे कई लोगों ने अपने बेटे गवाएं है। कई बहन-बेटियों ने सुहाग को गवांया है लेकिन मोदी सरकार को इससे कोई वर्क नहीं पड़ता। हमें पाकिस्तान के सबक सिखाने की जरूरत है लेकिन पीएम मोदी को अपने विदेश दौरों की चिंता है। उन्होंने साल 1972 की लड़ाई को याद करते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जो फैसला लिया था वैसा ही कुछ भारत को अभी करने की जरूरत है। उन्होने कहा कि मेरे बेटे ने देश के बलिदान दिया है और मुझे इस बात का गर्व है लेकिन ऐसे ही हम अपने सैनिकों नहीं खो सकते है। उन्होंने कहा कि सरकार को सैनिकों की सुरक्षा के लिहाज से पाकिस्तान को सबक सिखाने की जरूरत है।

शहीद जगदीश पुरोहित के पिता की पीड़ा हम कल्पना भी नहीं कर सकते । आखिर कब तक सैनिक यूँही शहीद होते रहेंगे

Posted by Harish Rawat Fans Club on Saturday, 27 January 2018