देहरादून। स्वतंत्रता दिवस के दिन मुख्यमंत्री हरीश रावत ने नौकरियों का पिटारा खोल दिया। सीएम रावत ने ऐलान किया कि इस वर्ष शिक्षकों समेत अन्य विभागों में करीब 30 हजार भर्तिया की जाएंगी। इसके साथ सीएम ने कहा कि वर्ष 2017 तक राज्य में हर घर में बिजली होगी।स्वतंत्रता दिवस के मौके पर परेड

मैदान में आयोजित कार्यक्रम में सीएम रावत ने ध्वजारोहण किया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि हमें अपनी मातृभूमि पर गर्व है। भारत देश ने कई महान हस्तियों को जन्म दिया। आज हम लाखों सेना के जवानों और क्रांतिकारियों का बहादुरी के कारण ही आजाद है। उन्होंने देश की के लिए अपनी जान गंवाने वाले शहीद सैनिकों को याद कर उन्हें नमन किया। इस मौके पर स्कूली बच्चों द्वारा कई कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री हरीश रावत के ऐलान केअनुसार राज्य में इस वर्ष 100 से अधिक आंगनबाड़ी केंद्र खुलेंगे,आशाओं के मानदेह में एक हजार रुपए की वृद्धि होगी, पांच सालों में 5 लाख लोगों को ट्रेनिंग दी जाएगी, स्वतंत्रता कंग्राम सेनानी और उनकी पत्नियों की पेंशन 21 हजार, 75 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गो की पेंशन में 500 रुपए की बढ़ोतरी,बीपीएल और मातृत्व अवकाश के दौरान दो हाजार की आर्थिक सहायता।  एक बात जो इस आयोजन के चर्चा का विषय बनी वो थी मुख्यमंत्री हीश रावत और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के बीच के मतभेद। जी हां लंबे समय से मुद्दा लगातार खबर की सुर्खिया बटौर रहा था और आयोजन के दौरान जब सीएम ने  किशोर उपाध्याय  को मंच पर बुलाया और उनके ना आने से दोनों की रिश्तों की गर्माहात एक बार फिर सामने आ गई है।