हल्द्वानी। शहर में जितनी जल्दी रोड़ का निर्माण नही होता है उससे जल्दी उससे तोड़ दिया जाता है। इसी विषय में  जिला कार्यालय सभागार में रोड कटिंग समिति की बैठक लेते हुये जिलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि बिना स्वीकृृति के कोई भी विभाग अथवा केबिल एजेंसी सड़क की कटिंग करता है तो उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की जायेगी। उन्होंने एयरटेल द्वारा हल्द्वानी में दिये गये निर्देशों का अनुपालन ना करने तथा वर्षाकाल में भी रोड कटिंग कार्य करने पर एयरटेल को रामपुर रोड सुशीला तिवारी से पंचायतघर तक केबिल बिछाने की पूर्व अनुमति को रद्द करने के निर्देश दिये। समिति द्वारा निर्णलय लिया गया कि ओएफसी केबिल बिछाने हेतु सड़क कटिंग की स्वीकृति वर्षाकाल के बाद दी जायेगी।

जिलाधिकारी ने सभी ओएफसी केबल बिछाने वाले संस्थाओं को निर्देश दिये कि वे मैदानी क्षेत्र में मानकों के अनुसार डेढ़ मीटर व पहाड़ी क्षेत्र में 01 मीटर नीचे केबल डालने के निर्देश दिये। साथ ही समिति द्वारा तय किया गया कि फायबर केबिल बिछाने वाले संस्थाओं को जनपद में एक बार में 05 किमी0केबिल बिछाने की स्वीकृति दी जायेगी जिसमें वह 200-200 मीटर खुदाई कर भरान करते हुये केबिल बिछायेंगे।
जिलाधिकारी ने बीएसएनएल के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे ग्राम पंचायतों को नेट से जोड़ने की कार्यवाही की मासिक सूचनायें उन्हें उपलब्ध करायें साथ ही कितने ग्राम पंचायतें नेटवर्क से जुड़ गयी हैं उसकी सूची भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। साथ ही उन्होंने कहा कि हल्द्वानी-काठगोदाम रोड का चैड़ीकरण हो गया है जिसके कारण बीएसएनएल ने ओएफसी पिलर सड़क के बीच आ गये हैं जिससे दुर्घटना होने का खतरा भी बना है। उन्होंने ओएफसी पिलरों को सड़क किनारे करने के निर्देश भी दिये। बैठक में अपर जिलाधिकारी आरडी पालीवाल, अधीक्षण अभियंता लोक निर्माण डीएस नबियाल, अधिशासी अभियंता लोक निर्माण रणजीत सिंह रावत, एसके गर्ग, डीएस कुटियाल, एचएस रावत, जलसंस्थान जगदीप चैधरी, पेयजल निगम एससी पंत, रकमपाल सिंह, सीओ विजय थापा, आईडिया के जितेन्द्र मीना, बीएसएनएल डीके शर्मा सहित अनेक अधिकारी उपस्थित थे।