17 जुलाई को भारत में होगा राष्ट्रपति चुनाव

नई दिल्ली:केंद्रीय चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है।  राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 17 जुलाई को होगा। केंद्रीय चुनाव आयुक्त ने  प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आगामी राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ीं सारी अहम घोषणाएं कर दीं। मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए एक खास निर्वाचक पेन का इस्तेमाल होगा।  दूसरे पेन का इस्तेमाल करने पर वोट अवैध मान लिया जाएगा। चुनाव आयोग इस खास पेन की सप्लाई करेगा।

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस में जैदी ने कहा कि चुनाव आयोग 14 जून को राष्ट्रपति चुनाव का नोटिफिकेशन जारी करेगा। नामांकन करने की अंतिम तारीख 28 जून होगी। नामांकन की स्क्रूटनी के लिए 29 जून की तारीख तय की गई है।राष्ट्रपति पद के चुनाव में नरेंद्र मोदी की अगुआई वाले एनडीए का पलड़ा विपक्ष की तुलना में भारी नजर आ रहा है। वोट शेयर के मामले में एनडीए को कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष से तकरीबन 15 फीसदी बढ़त हासिल है। मौजूदा राजनीतिक समीकरणों के आधार पर किया गया आकलन तो यही दिखा रहा है।

ईटी के एक मोटे आकलन के मुताबिक, एनडीए (23 पार्टियों के सांसद और राज्यों के सदनों में जनप्रतिनिधि) के पास राष्ट्रपति चुनाव से संबंधित इलेक्टोरल कॉलेज में तकरीबन 48.64 फीसदी वोट हैं। इसके उलट, राज्य या केंद्र में राजनीतिक समीकरणों के आधार पर कांग्रेस की अगुआई वाले विपक्ष के साथ जाने वाली 23 राजनीतिक पार्टियों का वोट शेयर 35.47 फीसदी बैठता है। विपक्ष का यह कुनबा न सिर्फ वोट शेयर के मामले में एनडीए से काफी पीछे है, बल्कि केवल बीजेपी के वोट से भी कम है। विपक्ष के 35.47 फीसदी वोट शेयर के मुकाबले बीजेपी के पास इस इलेक्टोरल कॉलेज में 40 फीसदी वोट हैं।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now