Lockdown के बाद शुरू हुई सुशीला तिवारी की OPD, एक दिन में 30 मरीजों को ही देखेंगे डॉक्टर्स

एसटीएच में सात महीने बाद शुरू होगा इलाज, शुक्रवार से खुलेंगी अहम विभागों की ओपीडी।

हल्द्वानी: पिछले काफी महीनों से बंद रहे प्रदेश के समस्त सरकारी अस्पतालों के ओपीडी अब खुलना शुरू हो गए हैं। अनलॉक में छूट मिलने के बाद से ही प्रदेश की हरेक स्थगित पड़ी व्यवस्थाएं, स्कूल, ट्रांसपोर्ट माध्यम आदि सब एक बार फिर चलने लगा है। जिसके चलते सरकार और हॉस्पिटल संचालकों ने भी यह अहम फैसला लिया है। कोरोना के चलते एक लंबे वक्त तक सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी की ओपीडी भी शुक्रवार से खुल जाएंगी।

अस्पताल प्रबंधन की माने तो उन्होंने हर प्रकार की तैयारियां कर ली हैं और अब एसटीएच की ओपीडी पुन: खुलने के लिये तैयार हैं। हॉस्पिटल प्रबंधकों ने डॉक्टरों की ओपीडी के लिये हफ्ते में अलग अलग दिन निर्धारित किये हैं। इसके अलावा ओपीडी के लिये पंजीकरण और डॉक्टरों द्वारा एक दिन में मरीज देखने की संख्या भी निर्धारित कर दी गई है।

यह भी पढ़ें: रुद्रप्रयाग की डीएम वंदना सिंह को हटाया गया, कार्मिक विभाग में अटैच किया गया

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: दीवाली से पहले आम आदमी को झटका, ऑटो का सफर अब पांच रुपये महंगा

वर्तमान में राजकीय मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर सीपी भैंसोड़ा ने जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि सप्ताह में न्यूरो सर्जरी की ओपीडी तीन दिन, प्लास्टिक सर्जरी की दो दिन एवं बाकी विभागों की ओपीडी छह दिन खुला करेगी। प्रो. सीपी भैंसोड़ा नेबताया कि एक विभाग में रोज़ाना केवल 30 ही मरीज़ देखे जाएंगे। मरीज़ों को डॉक्टरों से मिलने के लिये पंजीकरण कराना होगा। पंजीकरण करवाने का समय सुबह 9 बजे से 11.30 बजे तक ही रखा गया है।

जानकारी के मुताबिक पलास्टिक सर्जरी विभाग के ओपीडी मंगलवार व शनिवार, नयूरोसर्जरी के बुधवार, गुरूवार और शुक्रवार को खुलेंगे जबकि हड्डी रोग, चर्म रोग, फिज़ियोथैरेपी, मानसिक रोग और दंत रोग विभागों के ओपीडी सोमवार से शनिवार तक खुला करेंगे।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के युवाओं का इंतजार खत्म, नए साल में पुलिस विभाग में आएगी डेढ़ हजार भर्तियां

यह भी पढ़ें: दूध के बाद उत्तराखंड के बाज़ार में जल्द मिलेगा आंचल कंपनी का Organic घी

समस्त ओपीडी के खुलने के बाद अस्पताल प्रबंधन से और भी विभागों के ओपीडी खोले जाने की मांग की जा रही है। हॉस्पिटल संचालकों पर नेत्र रोग, सर्जरी, बाल रोग व स्त्री एवं प्रसूति रोग विभागों के ओपीडी खोलने का दबाव भी बढ़ने लगा है।

लोगों का मानना है कि मरीजों की संख्या निर्धारित कर के बाकी विभागों के ओपीडी भी खोले जा सकते हैं। बता दें कि सुशीला तिवारी अस्पताल में पहले हज़ारों मरीज़ देखे जाते थे लेकिन कोविड 19 नियमों के मद्देनज़र ओपीडी में देखे जाने वाले मरीज़ों की संख्या निर्धारित की गई है। जिससे लोगों को परेशानी उठानी पड़ सकती है।

यह भी पढ़ें: नैनीताल:कोविड नेगेटिव रिपोर्ट दिखाने वालों को होटल बुकिंग में 25 फीसदी छूट, बिना मास्क वालों का होगा चालान

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:कंचन पंत की फिल्म जल्द बड़े पर्दे पर आएगी,देवभूमि को मायानगरी बनाने का सपना

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now