अल्मोड़ा की अंजू ने सड़क हादसे में खोई आंखों की रोशनी,हार नहीं मानी और हल्द्वानी में बन गई शिक्षक

अल्मोड़ा: उत्तराखंड की बेटी अंजू की हाईस्कूल पास करने के उपरांत एक हादसे में दोनों आंखों की रोशनी चली गई, बावजूद इसके उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और ब्रेल लिपि के माध्यम से अपनी पढ़ाई जारी रख न सिर्फ अपने सपनों को साकार किया बल्कि डीएलएड करने के बाद अब वह नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड (नैब) संस्था में दृष्टि दिव्यांग बच्चों को पढ़ाकर उनके अंधकारमय जीवन में भी शिक्षा का उजियारा भर रही है। अंजू के इस साहस, मेहनत और लगन की आज हर कोई तारीफ़ कर रहा हैं। वर्तमान में अंजू उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय (यूओयू) से ब्रेल लिपि से बीए की पढ़ाई करने के साथ ही नैब में कक्षा एक से आठवीं तक के बच्चों को भी पढ़ा रही हैं।

यह भी पढ़े:देहरादून से राहत भरी खबर, 11 जनवरी से शुरू होगा एक और ट्रेन का संचालन

यह भी पढ़े:जिला पूर्ति विभाग की ओर से कार्रवाई शुरू,शहर के 37 हजार फर्जी राशन कार्ड होंगे निरस्त

जानकारी के अनुसार अंजी बिष्ट मूल रूप से अल्मोड़ा जिले के माल गांव निवासी है। अंजू ने वर्ष 2013 में जीजीआईसी अल्मोड़ा से हाईस्कूल की परीक्षा पास की।बचपन से मन लगाकर पढाई करने वाली अंजू हाईस्कूल की परीक्षा देकर काफी खुश थी, परंतु इसके बाद हुए एक हादसे ने अंजू की जिंदगी को पूरी तरह बदलकर रख दिया। अब अंजू के जीवन में चारों ओर अंधियारा छा गया था। हादसे में उसकी दोनों आंखों की रोशनी जा चुकी थी। बेटी की आंखों की रोशनी जाने से चिंतित परिजनों ने अंजू का विभिन्न अस्पतालों में इलाज करवाया।

यहां तक कि परिजन अंजू को इलाज के लिए दिल्ली एम्स भी लेकर ग‌ए परंतु कोई फायदा नहीं हुआ। आंखों की रोशनी चलें जाने से अंजू को करीब दो वर्ष तक घर पर ही रहना पड़ा। एक बार के लिए तो ऐसा लगा कि अब अंजू की पढ़ाई हमेशा के लिए छूट जाएगी परंतु 2015 में गौलापार हल्द्वानी स्थित नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड (नैब) संस्था के संपर्क में आने पर अंजू को एक बार फिर आगे की पढ़ाई के लिए उम्मीद की किरण दिखाई दी। पहले उन्होंने नैब में ब्रेल लिपि सीखी और फिर जीजीआईसी हल्द्वानी से इंटर की परीक्षा ब्रेल लिपि के माध्यम से उत्तीर्ण की। तदोपरांत उन्होंने मुंबई से दो साल का डीएलएड कोर्स किया।

यह भी पढ़े:जिले में रोजाना एक हजार लोगों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, पूरे राज्य में शुरू हुआ ड्राई रन

यह भी पढ़े:उत्तराखंड से उत्तर प्रदेश और हिमाचल के मार्गों पर निजी बसों के संचालन की तैयारी में विभाग

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now