वेस्ट प्रोडक्ट का इस्तेमाल भी दे सकता है बेहतर इनकम,उत्तराखंड के युवाओं को सिखा रहे हैं रमेश बिष्ट

हल्द्वानी: किसी के लिए भी अपनी जिंदगी में आत्मनिर्भर बनना बहुत कुछ होता है। ज़िंदगी के किसी ना किसी पड़ाव पर हमें आत्मनिर्भर होने की ज़रूरत ज़रूर महसूस होती है। आत्मनिर्भर बन कर कई फायदे होते हैं। जिसमें से दो महत्वपूर्ण चीजें यह हैं, कि पहली तो आपको कुछ भी करने की आजादी मिलती है और दूसरा नौकरी की तरह आपको पैसे के लिए किसी के सामने हाथ नहीं फैलाने पड़ते हैं। भारत में कोरोना के प्रवेश के बाद से ही आत्मनिर्भर भारत का संकल्प कई लोगों ने लिया।

उत्तराखंड में भी कई युवाओं ने आत्मनिर्भर होने की तरफ पुख्ता कदम उठाए। इसी कड़ी में नाम याद आता है हल्द्वानी के बिष्ट उद्योग का। हल्द्वानी कमालुआगंजा स्थित बिष्ट कैंडल एंड लाइट ट्रेडिंग कंपनी, जो कि हल्द्वानी और आसपास में बिष्ट उद्योग के नाम से प्रसिद्ध है, ने खुद आत्मनिर्भर बनने के साथ-साथ वेस्ट प्रोडक्ट की मदद से रोजगार के मौके भी पैदा किए हैं। बहरहाल बिष्ट उद्योग की शुरुआत तो कोरोना के आने से काफी पहले से ही हो गई थी। कंपनी कई सालों से स्टार्टअप करने वाले युवाओं की मदद कर रही है। बिष्ट उद्योग में उपलब्ध मशीनों को आप बहुत कम दामों में खरीद कर स्टार्टअप खोल कर आत्मनिर्भर बनने का सपना पूरा कर सकते हैं।

यह भी पढ़े: हल्द्वानी में शुरू हुए ब्लड डोनेशन कैंप, बैंक में खून की कमी को देखते हुए प्रशासन का फैसला

यह भी पढ़े: श्रमजीवी पत्रकार यूनियन:योगेश शर्मा बनें हल्द्वानी महानगर का अध्यक्ष, युवाओं के लिए बोली अहम बात

पहली सबसे महत्वपूर्ण चीज है मशीनों का कच्चा माल। कोई भी कंपनी अगर आपको मशीनें देगी तो आपको कच्चा माल मुहैया नहीं करवाएगी मगर बिष्ट उद्योग आपको कच्चे माल से वंचित नहीं करता। दूसरी सबसे ज़रूरी चीज़ है वेस्ट प्रोडक्ट का इस्तेमाल। बिष्ट उद्योग के पास ऐसी मशीनें भी उपलब्ध हैं जो गोबर से लकड़ी बना देती हैं। जिसके कारण गोबर का भी इस्तेमाल हो जाता है और इससे आय भी स्थापित की जा सकती है। इन्हीं कारणों के चलते पिछले काफी समय से बहुत से युवा बिष्ट उद्योग से जुड़ रहे हैं। यहां से मशीनें खरीद कर बड़े-बड़े स्टार्टअप खोल रहे हैं। कई लोग तो अब अपनी आय पूरी तरह से स्थापित कर चुके हैं और आत्मनिर्भर भी बन चुके हैं।

अगर आप बिष्ट उद्योग से जुड़ते हैं तो आजकल एक नई स्कीम के मुताबिक आपको महज 25,900 रुपए खर्च करने हैं और आप उससे अपनी आमदनी के माध्यम स्थापित कर सकते हैं। दरअसल बिष्ट उद्योग तरह तरह के उद्योगों को पैदा करने वाली मशीनें उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराता है। आप भी बिष्ट उद्योग से तरह तरह की मशीनें जैसे स्लीपर, पेपर दोना प्लेट, चाऊमीन, रुई बत्ती बनाने की मशीने खरीद सकते हैं और अपना एक नया काम शुरू कर सकते हैं, जिससे आप आत्मनिर्भर हेने की तरफ अग्रसर हो सकेंगे।

यह भी पढ़े: उत्तराखंड:जखेड़ गांव के रॉबिन बिष्ट बनें सिक्किम क्रिकेट टीम के कप्तान

यह भी पढ़े: लोनिवि ने बिना सूचना बंद किया हल्द्वानी-भीमताल मार्ग, महिला ने ऑटो में ही दिया जुड़वा को जन्म

साबुन, सर्फ, बांस स्टिक मेकिंग हेयरबैंड रबड़ मशीन और पेपर दोना मशीन, पेपर कप मशीन, अगरबत्ती मेकिंग मशीन, धूपबत्ती मशीन, कपूर मेकिंग मशीन भी बिष्ट उद्योग में उपलब्ध हैं। कंपनी मशीनों के साथ साथ अपने ग्राहकों को उनका कच्चा माल भी देती है। बिष्ट उद्योग आपको ना सिर्फ मशीनें और कच्चा माल उपलब्ध कराता है बल्कि मशीनों और कच्चे माल का इस्तेमाल कैसे करना है, यह प्रशिक्षण भी आपको देता है। और वैसे भी ट्रेनिंग तो ज़रूरी होती ही है।

तो देर किस बात की है, आप भी आईए और मशीने खरीद कर स्टार्टअप की शुरुआत कर दीजिए। इससे बढ़िया मौका आपको नहीं मिल सकता। बिष्ट उद्योग के प्रबंधक रमेश बिष्ट के अनुसार मात्र 25,900 रु में आप मशीनों को कंपनी से खरीद कर ला सकते हैं। इससे संबंधित किसी भी तरह की जानकारी के लिये आप www.bishtudhyog.com पर जा सकते हैं या फ़िर 9639565309,9720412107,8979536621,7617643577 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: इंदिरा हृदयेश को उम्र के हिसाब से मार्गदर्शन मंडल में चले जाना चाहिए:मदन कौशिक

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में चौकी इंचार्ज को मिली लापरवाही की सजा,SSP ने किया सस्पेंड

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now