स्ट्रेन से मुकाबला:विदेशों से उत्तराखंड आए संक्रमितों का दून और हल्द्वानी में होगा इलाज

हल्द्वानी: पूरा साल कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को रुलाया। अभी भी इस बीमारी का इलाज खोजने का प्रयास किया जा रहा ह। वहीं कोरोना वायरस के बीच नए स्ट्रेन ने लोगों की परेशानी को बड़ा दिया है। स्ट्रेन के शुरुआती मामले ब्रिटेन से सामने आए थे। इसके बाद दुनिया भर से केस आना शुरू हो गया है। भारत में भी स्ट्रेन के केस सामने आए हैं। स्ट्रेन के सामने आने के बाद उत्तराखंड सरकार ने बचाव हेतु प्लान बनाना शुरू कर दिया है। केंद्र द्वारा गाइडलाइन के अनुसार प्रदेश में कोरोना के नए स्ट्रेन की रोकथाम के लिए इंतजाम किए जा रहे हैं। ब्रिटेन समेत अन्य देशों से लौटे लोगों और उनके संपर्क में आने वालों को ट्रेस किया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो ब्रिटेन से उत्तराखंड अब तक 227 लोग आए हैं। 202 लोगों को ट्रेन कर लिया गया है।

उत्तराखंड के हर जिले में ब्रिटेन से लौटने वाले संक्रमितों के लिए अलग से आईसोलेशन वार्ड बनाने का कार्य शुरू हो गया है। वहीं, ऐसे संक्रमितों का इलाज सिर्फ दून और हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में किया जाएगा। इस बारे में प्रभारी सचिव स्वास्थ्य डॉ. पंकज कुमार पांडेय ने बताया कि कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को लेकर केंद्र की ओर जारी गाइडलाइन के आधार पर प्रदेश में व्यवस्था की जा रही है। ब्रिटेन से लौटा प्रवासी अगर कोरोना संक्रमित पाया जाता है तो उनके लिए प्रत्येक जिला में अलग से आईसोलेशन वार्ड बनाए जा रहे हैं। वहीं, संपर्क में आने वाले लोगों को आईसीएमआर के दिशा-निर्देशों के अनुसार संस्थागत क्वारंटीन किया जाएगा।

विदेशों से लौटने वाले संक्रमितों का इलाज दून और हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में होगा। ब्रिटेन, यूके व अन्य देशों से लौटने वाले लोगों और संपर्क में आने वालों का पता लगा कर आरटीपीसीआर जांच की जा रही है। रिपोर्ट के पॉजिटिव आने पर कोरोना के नए स्ट्रेन का पता लगाने के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी संस्थान पुणे सैंपल भेजे जा रहे हैं। फिलहाल ये सुविधा अभी राज्य में मौजूद नहीं है।

यूके से लौटा एक और व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला है। संक्रमित मरीज टिहरी निवासी है। दून में सैंपल लेने के बाद वह कोरोना संक्रमित पाया गया। संक्रमित व्यक्ति में कोरोना के नए स्ट्रेन का पता लगाने के लिए सैंपल पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी लैब भेजा जाएगा।  फिलहाल मरीज का इलाज दून में चल रहा है। विदेश से आने के बाद वह देहरादून में रह रहा था , अब विभाग की टीम संपर्क में आए लोगों का पता कर रही है। बता दें कि इससे पहले ब्रिटेन से लौटे सात लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। जिनके सैंपल भी जांच के लिए पुणे भेजे गए हैं। इनकी अभी तक रिपोर्ट नहीं आई है।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now