अमेरिका फेसबुक में नौकरी करते हैं चंद्रशेखर पाटनी,छुट्टियों में हल्द्वानी आकर करते हैं लोगों की मदद

हल्द्वानी: अपने देश को छोड़िए, अब विदेशों तक में हमारे युवाओं को कम नहीं आंका जा रहा है। अब उत्तराखंड की सुंदरता ही नहीं बल्कि, यहां की कलाएं, शिक्षा आदि विदेशों में बढ़ चढ़ कर प्रदेश का नाम रौशन करने का काम कर रही हैं। अल्मोड़ा के मूल निवासी और हल्द्वानी के रहने वाले चंद्रशेखर पाटनी तो फेसबुक जैसी विख्यात कंपनी में अपना लोहा मनवा रहे हैं।

अगर हम चंद्रशेखर पाटनी की ज़िंदगी को एक टक देखें तो, हमें समझ आ जाएगा की पढ़ाई लिखाई के क्षेत्र में भी हमारे यहां के लोग कितना आगे निकल चुके हैं। चंद्रशेखर पाटनी आइआइटी मुंबई से पढ़े हुए हैं। इससे पहले उन्होंने हल्द्वानी के सरस्वती शिशु मंदिर से प्राथमिक शिक्षा लेने के बाद जीआइसी अल्मोड़ा में भी पढ़ाई की है।

यह भी पढ़ें: KBC में गूंजेगा हल्द्वानी की थाल सेवा का नारा,अमिताभ करेंगे नेक कामों की सराहना

यह भी पढ़ें: पहले शिक्षा देकर बसाई बच्चों की ज़िंदगी,अब बेघरों को छत देगा NAB हल्द्वानी

बहरहाल पाटनी अब संयुक्त राज्य अमेरिका के कैलिफोर्निया स्थिति सिलिकान वैली में स्थित फेसबुक के दफ्तर में सीनियर कंसल्टेंट के पद पर कार्यरत हैं। जानकारी के लिए आपको बता दें कि फेसबुक के दफ्तर में काम करने से पहले उन्होंने अपनी एक कंपनी भी स्थापित की थी। जिसमें लगभग 300 लोग काम करते थे।

वैसे तो चंद्रशेखर पाटनी का मूल घर अल्मोड़ा जिले के पनुवानौला के समीप तोली गांव में हुआ। मगर पिता खीमानंद पाटनी ट्रक चला कर परिवार का पेट पालते थे, जिस कारण परिवार को हल्द्वानी आकर ही बसना पड़ा।

यह भी पढ़ें: बर्ड फ्लू का डर,नैनीताल ZOO के जीवों को बचाने के लिए चिकन, अंडे को मीनू से हटाया गया

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी डॉ.लाल पैथलैब ने 17 दिन बाद दी संक्रमित की कोरोना रिपोर्ट, संचालक के खिलाफ FIR दर्ज

आपको जानकर खुशी होगी कि चंद्रशेखर पाटनी हर साल अमेरिका से यहां आते हैं तो अपने गांव और शहर के समस्त समाज सेवी कार्यों में जुट जाते हैं तथा सहयोग करते हैं। कुमाऊं विश्वविद्यालय भीमताल परिसर के निदेशक प्रो. पीसी कविदयाल ने बताया कि 2017 में पाटनी छात्रों को इंटरनेट मीडिया के बारे में ज्ञान देने भीमताल भी आए थे।

इसके अलावा भी वे छात्रों के विकास से किसी ना किसी तरह से जुड़े रहते हैं। गर्व होता है जब उत्तराखंड का कोई होनहार युवक इतना सफल हो जाए। अधिक गर्व होता है जब वो चंद्रशेखर पाटनी की तरह अपनी जड़ों को ना भूले।

यह भी पढ़ें: पत्रिका के जरिए होगा मनोरोग का इलाज,हल्द्वानी मनोचिकित्सक डॉ. नेहा शर्मा की नई मुहिम

यह भी पढ़ें: कौशिक दिल्ली आएं तो हम उन्हें केजरीवाल मॉडल से कराएंगे रूबरू,हमें भाग जाने कि आदत नहीं : सिसोदिया

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now