नई दिल्ली : विपक्ष के लगातार हमलों के बाद सरकार ने जीएसटी में बदलाव किये हैं | जीएसटी लांच के चार महीने बाद जीएसटी कौंसिल ने शुक्रवार को 80 प्रतिशत चीजों को 28 परसेंट टैक्स स्लैब से हटाकर नीचे रख दिया है |नवम्बर 15 से बाहर खाना पहले के मुक़ाबले 13 प्रतिशत सस्ता हो जाएगा | इसके अलावा बाकि के सामान जैसे शैम्पू,डिओडरंट ,चॉक्लेट,फर्नीचर आदि भी 10 फीसदी सस्ता हो जाएगा |

केवल 50 उत्पाद जो लक्ज़री की श्रेणी में आते हैं ,जैसे तंबाकू ,ड्रिंक्स,ऑटोमोबाइल इन सब को 28 प्रतिशत की श्रेणी में रखा गया है | जब 1 जुलाई को जीएसटी लागु किया गया था तब 250 से अधिक उत्पाद सबसे अधिक टैक्स की श्रेणी में थे | कई उत्पाद जो सबसे अधिक टैक्स श्रेणी में हैं उनमें सेस भी लगेगा | वित्त मंत्री अरुण जटेली ने टैक्स स्लैब में हुए बदलाव को युक्तिकरण प्रक्रिया का हिस्सा बताया | सात घंटे चली बैठक के बाद उन्होने मीडिया को बताया की इस फेरबदल के बाद 200 चीजों के दाम में कमी आएगी |

जीएसटी में हुए तजा बदलाव बदलाव के बाद राज्यों और केंद्र सरकार पर 20 ,000 करोड़ का अतरिक्त बोझ पड़ेगा |.कंसल्टिंग फर्म EY इंडिया के पार्टनर दिव्येश लप्सीवाला ने कहा की सरकार को राजस्व घाटी की भरपाई दूसरे स्रोतों से करनी पड़ेगी |