भारतीय क्रिकेटर के घर पर लूट का हुआ खुलासा, BSF का अधिकारी मास्टरमाइंड

देहरादून: टीम इंडिया ए और बंगाल रणजी टीम के कप्तान अभिमन्यु ईश्वरन के घर हुई लूट का खुलासा देहरादून पुलिस ने कर दिया है। पुलिस ने पांच आरोपियों के गिरफ्तार किया है। वहीं तीन आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। इस पूरे घटनाक्रम की स्क्रिप्ट BSF से बर्खास्त अधिकारी वीरेन्द्र ठाकुर ने लिखी। पुलिस ने वीरेन्द्र को दिल्ली से गिरफ्तार किया। आरोपियों के पास से पुलिस ने 11 लाख 70 हजार की नगदी और जेवरात बरामद किए।

पुलिस ने खुलासे के वक्त पत्रकारों को जानकारी दी की आरोपियों ने पहले भाजपा विधायक उमेश शर्मा काऊ के नाम का सहारा लेकर बिल्डर राकेश बत्रा के घर में डाका डालने का प्लान बनाया था। वह सफल नहीं हो पाए तो उन्होंने अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी के मालिक आरपी ईश्वरन के परिवार को निशाना बना। वीरेंद्र के अलावा पुलिस ने रायपुर के आजाद नगर निवासी सैलून संचालक मुजिब्बुर रहमान उर्फ पीरू, फुरकान निवासी अलावलपुर हरिद्वार और फईम निवासी रघुबीर नगर नई दिल्ली से गिरफ्तार किया। पुलिस ने बताया कि वीरेंद्र घटना को अंजाम देने के बाद अपने बच्चों के साथ फरार होने का प्लान बना रहा था। आरोपियों ने लूटे गए सोने के जेवरात 33 लाख रुपये में बेचे थे और पैसे आपस में बांट लिए थे। वहीं फरार आरोपियों की पहचान फरार हैदर निवासी नूरपुर बिजनौर, मिश्रा और फिरोज निवासी रघुवीर नगर  के रूप में हुई है। दोनों को पकड़ने के लिए पुलिस उत्तर प्रदेश और दिल्ली में छानबीन कर रही है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अरुण मोहन जोशी ने बताया कि घटना की तह तक जाने के लिए पुलिस को दिन रात एक करना पड़ा। एसपी सिटी श्वेता चौबे के नेतृत्व में एसओजी प्रभारी ऐश्वर्य पाल और उप निरीक्षक यासीन आदि की टीम के अथक प्रयासों के बाद मामले में आठ दिन बाद कामयाबी मिली। घटना में प्रयुक्त शेवरले बीट कार के आधार पर पुलिस ने पहले दिल्ली से अदनान निवासी पान मंडी सदर बाजार नई दिल्ली को गिरफ्तार किया।  बता दें कि मसूरी रोड स्थित अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी के मालिक आरपी ईश्वरन की कोठी में 22 सितंबर की रात हथियार बंद बदमाशों ने परिजनों को आतंकित कर 60 लाख रुपये से अधिक की संपत्ति लूट ली थी। खुलासे के बाद पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी ने पुलिस टीम को बीस हजार और आरपी ईश्वरन ने एक लाख 51 हजार रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की है।