उत्तराखण्ड के है आप, तो क्या इन पहाड़ी शब्दों का मतलब जानते हैं !

141

हल्द्वानी: सोशल मीडिया के पोपुलर होने के बाद छोटी-छोटी प्रतिभा सामने आ रही है। उत्तराखण्ड पलायन की मार झेल रहा है लेकिन अब युवा पीढ़ी ने एक बार फिर देवभूमि को दोबारा बसाने का बैडा उठाा है। उसकी इस मुहिम में सोशल मीडिया एक बड़ी ताकत बनकर सामने आया है। सोशल मीडिया के माध्यम से उत्तराखण्ड के युवा पहाड़ी भाषा में गीत, कुक्कड व वाइंस बना रहे है। इस तरह सो लोगों को पहाड़ी भाषा का ज्ञान हो रहा है। इसी तरह से हम आज आपके लिए कुछ पहाड़ी शब्दों के मतलब लेकर आए है। देखते है कि आप कितनें शब्दे के मतलब को जानते हैं।

कुमाऊंनी शब्दकोष कुछ कुमाऊँनी क्रिया शब्द
( एक प्रयास न्यूनताओं पर सुधार आपेक्षित )
१. अलबलाट :- जल्दीबाजी
२. इतराट :- ओछापन
३. कचकचाट :- व्यर्थ बोलना
४. कुकाट :- बहुत ज्यादा बोलना
५. खितखिताट :- जोर से हँसना
६. चिचाट :- डर कर चिल्लाना
७. चिङचिङाट :- व्यर्थ का क्रोध
८. छलबलाट :- इतराना
९. टिटाट। :- जोर-जोर से रोना
१०. टपटपाट :- लगातार टपकना/कुछ खाने की लगातार इच्छा होना
११. तरतराट :- लगातार एक धारा के रूप में बहना
१२. थरथराट :- डर/कमजोरी के कारण पाँव काँपना
१३. दल्दिराट :- दरिद्रता प्रकट करना
१४. धकधकाट :- डरना
१५. नौराट :- कराहना
१६. बलबलाट :- उच्छृखलता
१७. बिलबिलाट :- दर्द के कारण रोना
१८. भिभाट :- जोर-जोर से रोना
१९. भुभाट :- जोर की आवाज
२०. मचमचाट :- मन्द स्वर में लगातार बोलना
२१. मणमणाट :- लगातार बोलना
२२. सकपकाट :- घबराजाना
२३. सकसकाट :- अधिक रोने के कारण साँस लेने में दिक्कत होना
२४. सुसाट :- हवा चलने की आवाज
२५. लटपटाट :- समय बर्बाद करना
२६. लरबराट। :- हङबङी