हल्द्वानी:क्रिकेट के मैदान पर उत्तराखण्ड का मान बढ़ाने वाले  भारतीय अंडर-19 विश्वविजेता टीम के सदस्य आर्यन जुयाल बुधवार को हल्द्वानी पहुंचे। आर्यन विश्वकप के बाद उत्तर प्रदेश की ओर से विजय हजारे ट्रॉफी में भी शानदार प्रदर्शन किया। हल्द्वानी आने के बाद आर्यन जुयाल ने हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम से बातचीत की। इस इंटरव्यू में आर्यन ने बताया कि वो अपने आप को खुशकिस्मत मानते है कि उन्हें भारतीय टीम की नीली जर्सी पहनने का अवसर मिला। उन्होंने बताया कि विश्वकप के दौरान राहुल द्रविड़ से मिले टिप्स उनके क्रिकेट करियर में हर वक्त मददगार साबित होंगे। इसके अलावा उन्होंने अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट आगाज को भी शानदार बताया। उन्होंने कहा कि किसी खिलाड़ी के लिए जरूरी होता है कि वो टीम के सीनियर खिलाड़ियों का भरोसा जीते। मैने अपने खेल से यही किया और तभी मुझे मौके मिले। उन्होंने कहा कि मुझे दवाब में खेलना ज्यादा पसंद है क्योंकि मेरे खेल में इससे निखार आता है। इस तरह के मौके मेरे खेल को अच्छा करने में मददगार साबित होंगे।

Image result for aryan juyal

बता दें कि 2017-2018 के बीच आर्यन ने उत्तर प्रदेश की ओर से खेलते हुए हजार से अधिक रन बनाए। उनकी शानदार फॉर्म के कारण उन्हें विजय हजारे ट्रॉफी में चुना गया। इस प्रतियोगिता में भारत के दिग्गज बल्लेबाज सुरेश रैना ने भी भाग लिया। विजय हजारे में उत्तर प्रदेश की टीम का खेल भले ही अच्छा नहीं रहा हो लेकिन आर्यन ने अपने खेल से लोगों को काफी प्रभावित किया।

आर्यन ने विजय हजारे ट्रॉफी में दो मुकाबले खेल और दोनों में टीम को संकट से उभारा। उन्होंने हिमाचल के खिलाफ 27 और त्रिपुरा के खिलाफ 69 रनों की मैच जिताऊ पारी खेली। आर्यन भी मानते है कि इस प्रतियोगिता में सीनियर खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करने से उनका मनोबल बड़ा है। वहीं उन्होंने ये भी माना की अगर उन्हें उच्च स्तर पर क्रिकेट खेलना है तो अपने प्रदर्शन को हर मैच में सुधारना होगा। आर्यन ने बताया कि खिलाड़ी को रनों की भूख तभी लगती है जब वो हर दिन कुछ सिखने का प्रयास करता है।

हल्द्वानी पहुंचने के बाद क्य कहा आर्यन ने देखे वीडियो नीचे अगली स्लाइड पर