आम्रपाली इंस्टीट्यूट हल्द्वानी में प्रवासियों के स्वरोजगार के लिए निशुल्क ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू

आम्रपाली इंस्टीट्यूट हल्द्वानी में प्रवासियों के स्वरोजगार के लिए निशुल्क ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू

आम्रपाली ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट अब युवाओं को स्वरोजगार के लिए भी मदद करेगा। सीईओ डॉ संजय ढींगरा ने बताया कि कोविड संकट और केन्द्र की नई शिक्षा नीति को देखते हुए भविष्य में शिक्षा का स्वरूप बदलने जा रहा है जिसके लिए आम्रपाली शिक्षण संस्थान ने पूरी तैयारी कर ली है। उन्होंने कहा कि बीस सालों सें निजी शिक्षण संस्थान के रूप में उत्तराखंड में विद्यार्थियों के लिए शिक्षा सेवा दे रहे आम्रपाली शिक्षण संस्थान ने कोविड संकट के दौरान हुए पहाड़ों और सीमावर्ती क्षेत्रों में तकनीकी के माध्यम से शिक्षा देने के कार्य को सफलता के साथ किया जा रहा है, जिसके लिए संस्थान ने अपनी सूचना प्रोद्योगिकी सिस्टम को अपग्रेड कर दिया है। कोविड-19 की विषम परिस्थितियों के चलते प्रयोगात्मक विषयों का ज्ञान उपलब्ध कराना एक बड़ी चुनौती है, जिससे निपटने के लिए संस्थान के शिक्षकों ने प्रयोगाात्मक वीडियो मॉडयूल की लाइब्रेरी विकसित की है जिसके द्वारा छात्रों को ऑनलाइन माध्यम से तकनीकी दक्षता प्रदान की जा रही है। इंजीनियरिंग एवं फार्मा के प्रैक्टिकल्स को भी भारत सरकार की वचॅूअल लैब के साथ जोड़ा गया है।

हल्द्वानी में आम्रपाली ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट द्वारा विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य के लिये एक निशुल्क ट्रेनिंग प्रोग्राम की व्यवस्था लागू की जा रही है, जिसमें छात्रों के लिये होटल मैनेजमेंट, फूड प्रोडक्शन, फूड सर्विस, हाऊस किपिंग, इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक, इलैक्ट्रीकल्स, कम्प्यूटर, मैकेनिकल आदि कोर्सो में इंस्टीट्यूट द्वारा विद्यार्थियों के लिये पढ़ाई की व्यवस्था निशुल्क की जायेगी। जिससे छात्र स्वयं को स्वरोजगार से जोड़ सकते है, और जाॅब प्रोवाइडर बन सकते है।

सीईओ डॉ संजय ढींगरा ने बताया कि नए विद्यार्थियों के लिए वीडियो तकनीक के जरिये शिक्षा और करियर काॅउसलिंग की जा रही है। अध्यनरत छात्रों हेतु संस्थान द्वारा स्वविकसित लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम के द्वारा छात्रों तक सुचारू रूप से शिक्षा को पहुंचाया जा रहा है। इस दौरान वेबिनार के द्वारा छात्रों को देश विदेश के तकनीकी दक्ष विषय विशेषज्ञों से सीधा सम्पर्क कराया गया। कोरोना संकट में कई परिवारों में आर्थिक संकट है जिसको देखते हुए विद्यार्थियों के लिए शिक्षा शुल्क सिस्टम को सरल किया गया है। हमारा शिक्षण परिवार ऐसी समस्या पर अभिभावकों और विद्यार्थियों के साथ खड़ा है।

आर्थिक रूप से कमजोर छात्र व छात्राओं के लिये आम्रपाली परिवार ने हमेशा छात्रवृत्ति के जरिये मदद की है। इस दौरान संस्थान द्वारा कुछ प्रमुख निर्णय लिए गए हैं। जैसे कि अध्यनरत छात्र-छात्राओं के लिए आसान किस्तों में फीस जमा करने का प्रावधान, नए छात्रों के लिए फीस 6 किस्तों में फीस जमा करने की सुविधा एवं छात्राओं के लिए विशेष छात्रवृति। प्रबंधन ने आर्थिक रूप से कमजोर व कोविड के चलते वित्तीय संकट से जूझ रहे व परिवार के छात्रों के लिए विशेष स्कालरशिप का प्रावधान किया है। कोरोना वाॅरियर्स के परिवार को सम्मान स्वरूप एक विशेष छूट प्रदान की जा रही है।

आम्रपाली शिक्षण संस्थान ने भारत सरकार और राज्य सरकार की भविष्य की नई शिक्षा नीति का स्वागत किया है और हम इसके लिए तैयारी भी करने लग गये हैं। जैसे हम शार्ट टर्म डिप्लोमा कोर्सेस की शुरूआत करने जा रहे हैं, हमारा संस्थान कुमाऊं विश्वविद्यालय और उत्तराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय आदि से जुड़ा है जिसकी उपाधि की दुनिया में अपनी एक पहचान है। संस्थान ने विगत वर्षो में कई उपलब्धियाॅ हासिल की हैं। जैसे होटल मैनेजमेंट कार्यक्रम की देश के उच्च संस्थानों में रैंकिंग, एमबीए, बीबीए और बीसीए कोर्सेज का शीर्ष सूची में सम्मिलित होना, वैस्ट वैल्यू आॅफ मनी की सूची में देश में प्रथम पांच की सूची में शामिल होना आदि अनेक उपलब्धियां। बेहतर रोजगार के लिए इंडस्ट्री के साथ वर्तमान में एमओयू किए और भविष्य में हम विदेशी शिक्षण संस्थनों के साथ एमओयू करने जा रहे हैं, ताकि हमारे और उनके विद्यार्थियों की बीच संवाद हो सके।

डॉ. संजय ढींगरा ने बताया कि हमारे शिक्षण परिसर में अंतराष्ट्रीय स्तर के काॅन्फ्रेंस व सेमिनार, राष्ट्रीय स्तर पर हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टीवल, शेफ काॅम्पटीशन, क्रिज प्रतियोगिता, प्रख्यात कलाकारों की प्रस्तुतियां, समाज सेवा, एनएसएस आदि के कार्यक्रम भी होते रहे हैं। संस्थान प्रबंधन ने निर्णय लिया है कि मौजूदा हालात में घर वापसी किए उत्तराखण्ड वासियों के लिए निशुल्क अल्प अवधि के प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रारम्भ किए जाएंगें, जिससे वो तकनीकी दक्षता प्राप्त कर स्वरोजगार की तरफ अग्रसर हो सकें। संस्थान शीघ्र ही इसकी सूचना प्रेषित करेगा। हम जाॅब प्लेसमेंट फेयर के जरिये भी बेरोजगार विद्यार्थियों का भविष्य संवारने के अभियान में जुटे हैं और जल्द ही इसकी सूचना दी जायेगी। हमारे पास आउट विद्यार्थियों की बड़ी संख्या इस वक्त दुनिया भर में अपना और देश का नाम रोशन कर रही है।
प्रेस वार्ता में सचिव नरेन्द्र ढींगरा, प्रो0 (डा0) एस0के0 सिंह, प्रो0 (डा0) एम0 के0 पाण्डेय, प्रो0 (डा0) ऋत्विक दूबे, प्रो0 (डा0) सिद्धार्थ शर्मा एंव प्रो0 प्रशांत शर्मा आदि उपस्थित रहे।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now