हल्द्वानी: गौलापार स्थित एमजे ग्राउंड में चल रहे टी-20 समर कप के सेमीफाइनल मुकाबले में हल्द्वानी क्रिकेट क्लब ने पंतनगर को 8 विकेट से हरा फाइनल में प्रवेश कर लिया है। सेमीफाइनल मुकाबले के शुरू से ही हल्द्वानी की टीम पंतनगर पर हाफी रही। टॉस जीतकर हल्द्वानी ने पंतनगर को बल्लेबाजी का न्यौता दिया। हल्द्वानी के गेंदबाजों ने पहले ही ओवर से विरोधी बल्लेबाजों को अपने मंसूबे दिखा दिए।

हल्द्वानी की दमदार गेंदबाजी के आगे पंतनगर के बल्लेबाज पहले ही ओवर से बैकफुट में नजर आए। पंतनगर की पूरी टीम हल्द्वानी के गेंदबाजों के आगे ज्यादा देर तक नहीं टिक सकी और मात्र 67 रनों पर ऑल आउट हो गई। पंतनगर का कोई भी बल्लेबाज दिहाई का आंकड़ा छूने में नाकाम रहा।हल्द्वानी की ओर से सबसे ज्यादा विकेट दिग्शांशु नेगी ने 4 विकेट अपने नाम किए। वहीं सुरेंद्र ने 3 और विनोद दो विकेट हासिल करने कामयाब रहें।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे हल्द्वानी के सलामी बल्लेबाजों ने शानदार शुरूआत की। शानदार फॉर्म में चल रहे दिग्शांशु ने ताबड़तोड़ 22 गेंदों में नाबाद 43 रनों की पारी खेली। इस पारी में उन्होंने 2 छक्के और 7 चौके लगाए। हल्द्वानी क्लब ने दीपक 8 और कुश शून्य के रूप में दो विकेट जरूर खोए। इसके अलावा सौरभ रावत ने नाबाद 13 रनों की पारी खेली, जिसके साथ ही हल्द्वानी ने पंतनगर को 8 विकेट से मात देकर फाइनल में प्रवेश कर लिया।

कोच दान सिंह कन्याल ने कहा कि इस टूर्नामेंट में हल्द्वानी से निकलकर बाहर बड़े स्तर पर खेलने वाले दिग्शांशु नेगी, सौरभ रावत, देवेंद्र कुंवर और सुरेंद्र कौरंगा को खेलना देख सुखद अनुभव देता है। ये सभी खिलाड़ी हल्द्वानी के युवा खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा है जिन्होंने बिना संसाधन के बड़े स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। उन्होंने कहा कि क्रिकेट में बहाने के लिए कोई जगह नहीं है, अगर आपको मौका मिलता है तो प्रदर्शन में तब्दील करना जरूरी है नहीं तो राह और कठिन हो सकती है।