हल्द्वानी में ब्लड कैंसर और नशे की लत परेशान व्यक्ति ने लगाई फांसी

हल्द्वानीः आर्थिक रुप से कमजोर और नशे की लत के सामने कैंसर पीड़ित मजदूर ने 13 मार्च को हार मान ली। हल्द्वानी में करायल चतुर सिंह गांव में तब सनसनी फैल गई जब लोगों को पता चला की ब्लड कैंसर से परेशान मजदूर ने फांसी लगा दी। घटना बुधवार (13 मार्च) की है। मजदूर दुर्गा प्रसाद(35) करायल चतुर सिंह स्थित किराए के कमरे में रहता था। जानकारी के मुताबिक जब मजदूर दुर्गा प्रसाद के ताऊ के बेटे देश राज और सुखपाल ने उसे चाय पर बुलाया तब किसी प्रकार कि आवाज ना आने पर दोनों भाई दुर्गा प्रसाद के कमरे की और गये पर कमरा अंदर से बंद होने के कारण कुछ पता नहीं चल पा रहा था। देशराज ने खिड़की से देखने की कोशिश करी तो कमरे के अंदर का नजारा देख देशराज के हाथ-पैर फुल गये।देशराज ने बताया कि दुर्गा प्रसाद 9 मार्च को ही बरेली जिले के नौलिया भोलापुर अपने घर से मजदूरी के लिए हल्द्वानी आया था। देशराज ने अपने भाई को अपने साथ ही हीरा सिंह बिष्ट के घर में किराये का कमरा दिला दिया। पर देश राज को क्या मालुम था कि दुर्गा प्रसाद कुछ ही दिन के लिए रहने आया है। देशराज ने बताया कि इसने जब दुर्गा प्रसाद के कमरे में झाँका तो दुर्गा प्रसाद की गर्दन राड के सहारे फंदे से लटकी थी। देशराज ने तत्काल टीपीनगर चौकी में संम्पर्क किया और चौकी प्रभारी सुशील कुमार ने मौके पर पंहुचकर कमरे का दरवाजा तोड़ा  और दुर्गा प्रसाद का शव बाहर निकाला। घटना की जानकारी मिलते ही दुर्गा प्रसाद का भाई अनिल पाल, मां शिवदेवी सहित परिवार के अन्य सदस्य मोर्चरी पहुंचे। पत्नी हीराकली का रोते रोते बुरा हाल हो गया है। छोटे भाई ने बताया कि दुर्गा की चार बेटियां हैं। पिता का साया 14 साल पहले सिर से उठ गया था। आर्थिक रुप से कमजोर मजदूर की पत्नी हीराकली पर चार बेटियों की जिम्मेदारी आ गई है।