हल्द्वानी:मौत से जंग हार गया दो वर्षीय तन्मय,चूहे मारने की दवा ने छीनी मासूम की ज़िंदगी

हल्द्वानी: शहर में दो साल के मासूम की मौत से हड़कंप मच गया। बच्चे ने कुछ दिनों पूर्व चूहे मारने की दवा निगल ली थी। सुशीला तिवारी अस्पताल में वह बीते दिन मौत से जंग हार गया। परिवार के पास रोने-बिलखने के अलावा कुछ नहीं रह गया है।

मूल रूप से पीलीभीत जिले के थाना जहानाबाद सेमरखेड़ा निवासी धर्मेंद्र मौर्या पिछले काफी सालों से हल्द्वानी स्थित जीतपुर नेगी में किराए पर रहता है। यहां उका परिवार भी उसके साथ ही रहता है। धर्मेंद्र मौर्या के घर में डेढ़ हफ्ते पहले भूचाल आ गया।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के बेटे को मिली आईपीएल में कप्तानी,धोनी के असली उतराधिकारी हैं ऋषभ पंत

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड सरकार ने जारी की कोरोना की नई गाइडलाइन, एक अप्रैल से होगी लागू

भूचाल यानी हुआ यह कि 21 मार्च को धर्मेंद्र का 2 वर्षीय बेटा तन्मय घर पर ही खेल रहा था। घर पर चूहे मारने वाला जहरीला कीटनाशक आटे में मिलाकर रखा गया था। बेटे तन्मय ने खेल-खेल में उसे खाने की चीज़ समझ कर निगल लिया।

इसके बाद तो अचानक उसकी तबीयत बिगड़ने लगी। तबीयत लगातार बिगड़ती देख, परिजन उसे लेकर सुशीला तिवारी अस्पताल पहुंचे। जहां बीते करीब दस दिनों से उसका इलाज चल रहा था। लेकिन नियति को जो मंजूर था वही हुआ। तन्मय बुधवार को इस दुनिया को अलविदा कह कर चला गया।

परिवार में कोहराम मचा हुआ है। मां-पिता की हालत काफी दुखद है। रोने के अलावा उनके पास और कोई सहारा नहीं रह गया। दो साल की उम्र में बेटे का चले जाना परिवार के लिए वाकई एक बड़ी क्षति है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: कोरोना वायरस ने पार किया एक लाख का आंकड़ा, कुछ देर पहले जारी हुआ है बुलेटिन

यह भी पढ़ें: एक बार फिर यूट्यूब पर छाए हरिद्वार के शिवम सडाना, शहंशाह गाने में दिखाया अलग अंदाज

यह भी पढ़ें: शादी के बाद नहीं छोड़ी पढ़ाई, देवरानी-जेठानी ने एक साथ पास की UPPSC परीक्षा

यह भी पढ़ें: जय देवभूमि-आस्था तो देखिए,लग्जरी जिंदगी छोड़ स्विट्जरलैंड से पैदल हरिद्वार पहुंचे बाबा बेन

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now