पहले शिक्षा देकर बसाई बच्चों की ज़िंदगी,अब बेघरों को छत देगा NAB हल्द्वानी

हल्द्वानी: शहर के रैन बसेरों की हालत अब जल्द ही सुधरने वाली है। नगर निगम के हल्द्वानी में दो रैन बसेरों में अब सुविधाएं बेहतर हो जाएंगी। अब शहर को भर्ती परीक्षाओं के लिए आने वाले युवाओं को तो सुविधा होगी ही होगी। साथ ही अन्य महिलाओं, पुरुषों और परिवारों के लिए फायदा हो जाएगा।

ऐसा इसलिए भी होगा क्योंकि अब नगर निगम के दो रैन बसेरों की देखरेख की ज़िम्मेदारी नैब यानी नेशनल एसोसिएशन फार द ब्लाइंड को दी गई है। हल्द्वानी में नगर निगम के दो रैन बसेरे हैं। जिसमें राजपुरा धोबी घाट स्थित डा. एपीजे अब्दुल कलाम आश्रय कम रैन बसेरा व बकरा मार्केट स्थित पंडित दीन दयाल उपाध्याय आश्रम स्थल कम रैन बसेरा शामिल है।

यह भी पढ़ें: बर्ड फ्लू का डर,नैनीताल ZOO के जीवों को बचाने के लिए चिकन, अंडे को मीनू से हटाया गया

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी डॉ.लाल पैथलैब ने 17 दिन बाद दी संक्रमित की कोरोना रिपोर्ट, संचालक के खिलाफ FIR दर्ज

राजपुरा स्थित इन्हीं दोनो रैन बसेरों के संचालन को नगर निगम हल्द्वानी ने बीते दिनों संस्थाओं के लिए टेंडर आमंत्रित किए थे। जिसमें 13 अक्टूबर को नैब संस्था के साथ निगम का अनुबंध हो गया। अब इन दोनों रैन बसेरों का संचालन संस्था द्वारा किया जाएगा।

संस्था ‘नेशनल एसोसिएशन फार द ब्लाइंड’ ने जानकारी दी और बताया कि धोबी घाट स्थित रैन बसेरे में 50 महिलाएं ठहर सकती हैं तो वहीं बकरा मार्केट स्थित रैन बसेरे में 100 महिलाओं या पुरुषों के रहने की व्यवस्था है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि यहां परिवार भी ठहर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: पत्रिका के जरिए होगा मनोरोग का इलाज,हल्द्वानी मनोचिकित्सक डॉ. नेहा शर्मा की नई मुहिम

यह भी पढ़ें: कौशिक दिल्ली आएं तो हम उन्हें केजरीवाल मॉडल से कराएंगे रूबरू,हमें भाग जाने कि आदत नहीं : सिसोदिया

क्या क्या रहेंगी सुविधाएं

1. चार-चार लोगों का स्टाफ रहेगा (एक-एक मैनेजर, एक सहायक और सफाई कर्मी)

2. धोबीघाट वाले रैन बसेरे में एक महिला कर्मी भी नियुक्त होगी

3. दोनों ही रैन बसेरों में फिलहाल कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा

4. नगर निगम के तय करने पर ही होगा शुल्क लेने या ना लेने पर फैसला

5. जाड़ों में गर्म पानी के लिए गीजर होंगे

6. गर्मियों में एसी की सुविधाएं रहेंगी

6. रैन बसेरों में सुविधाएं बढ़ाने के लिए दो-दो लाख रुपये खर्च किए जाएंगे

नेशनल एसोसिएशन फार द ब्लाइंड उत्तराखंड के महासचिव श्याम सिंह धानक ने जानकारी दी। उन्होंने बताया कि संस्था को दोनों रैन बसेरों के संचालन की अनुमति मिली है। फिल्हाल यह अनुबंध एक साल तक के लिए है। उन्होंने बताया कि बहुत जल्द स्टाफ की नियुक्ति भी की जाएगी। नैब संस्था का उद्देश्य है कि बाहरी क्षेत्रों जैसे पहाड़ से आने वाले लोगों को हल्द्वानी आकर कोई भी असुविधा ना हो।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:चार्ज संभालने के 15 घंटों बाद हुआ CO का ट्रांसफर, विवाद पैदा कर रहा है कारण

यह भी पढ़ें: पहाड़ के सपूत CDS जनरल रावत की चेतावनी,भारत से मुकाबला करने वाले टूटकर बर्बाद हो जाएंगे

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now