हल्द्वानीः बस और स्कूटी की भीषण टक्कर, सराफा कारोबारी की मौत

हल्द्वानीः शहर में सड़क हादसे थमने का नाम नहीं ले रहें हैं। सड़क हादसों का मुख्य कारण है यातायात नियमों की अनदेखी करना।अकसर देखा गया है कि गाड़ी तेज रफ्तार से चलाना, शराब पीकर गाड़ी चलाना, दूसरे लेन में गाड़ी चलाने के वजह से सड़क हादसे होते हैं। ऐसा ही खौफनाक सड़क हादसा हल्द्वानी के कमलुवागांजा रोड से सामने आ रहा है, जहां रविवार को एक निजी बस और स्कूटी की टक्कर में सराफा कारोबीरी की दर्दनाक मौत हो गई।बता दें कि कमलुवागांजा रोड में रविवार को एक निजी बस और स्कूटी में जोरदार टक्कर हो गई। टक्कर इतनी जोरदार थी की सराफा कारोबारी की मौत हो गई। छड़ैल निवासी गणेश लाल वर्मा (35) पुत्र मोहन लाल वर्मा की ऊंचापुल में एक ज्वेलरी की दुकान है। बता दें कि रविवार दोपहर करीब 3 बजे कुछ काम के सिलसिले से गणेश ने कालाढूंगी जाने की बात कही और वह दुकान से निकल गए। इसके बाद जैसे ही वह कमलुवागांजा रोड में हरिपुर नायक के पास पहुंचे तो सामने से आ रही बस से उनकी टक्कर हो गई। बस की चपेट में आने से गणेश गंभीर रूप से घायल हो गया।

इसके बाद आसपास के लोग मौके पर जमा हो गए और तुरंत गणेश को सुशीला तिवारी अस्पताल ले जाया गया। लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही गणेश ने दम तोड़ दिया। हादसे की सूचना पुलिस को मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और घटना की जांच में जुट गई। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कर के परिवारवालों को सौंप दिया है। वहींं मृतक के घर में कोहराम मच गया।

यह भी पढ़ें:कैसे सामने आई नैनीताल की खूबसूरती, किसे जाता है इसका श्रेय, जानें

यह भी पढ़ें:BCCI की उत्तराखण्ड में बैठक खत्म, अब उत्तराखण्ड क्रिकेट पर होगा फैसला

यह भी पढ़ें:ओम बिड़ला के लोकसभा स्पीकर बनते ही मोदी ने किया कुछ ऐसा,देख कर रह जाएंगे दंग

यह भी पढ़ें:सीएम रावतः पलायन रोकने के लिए लोगों को स्वरोजगार उपलब्ध कराना ही प्राथमिकता

यह भी पढ़ें:ब्रेकिंग न्यूज: चोट के चलते शिखर धवन विश्वकप से बाहर, पंत टीम में शामिल

यह भी पढ़ें:यूपी के संभल में दर्दनाक सड़क हादसे में दो बच्चों समेत 8 की मौत,12 घायल

यह भी पढ़ें:पिता ने बेटी से करना चाहा बलात्कार, तो बेटी ने कुदाल से पिता को उतारा मौत के घाट

यह भी पढ़ें:सावधान! हल्द्वानी में PAYTM के जरिए हो रहा है फर्जीवाड़ा, ऐसे करें पहचान

पिता ने बेटी से करना चाहा बलात्कार, तो बेटी ने कुदाल से पिता को उतारा मौत के घाट