जंगली जानवरों से पॉलीहाउस देगा नैनीताल के किसानों को आराम, जानें पूरी खबर

हल्द्वानीः राज्य में किसानों के लिए सबसे बड़ी समस्या जंगली जानवर बनते जा रहे है। जंगलों के नजदीक आने वाले गांव जंगली जानवरो से सबसे ज्यादा प्रभावित होते है। जिनमें सबसे ज्यादा संख्या में पर्वती क्षेत्रों के किसानों की फसल को नुकसान होता है। पर अब उद्यान विभाग ने किसानों की इस परेशानी का हल निकाल लिया है। विभाग ने पहाड़ों में ट्यूबलर स्ट्रक्चर पॉलीहाउस बनवाने के लिए विभाग ने बजट पारित कर दिया है। जिसमें पर्वतीय किसानों के लिए उद्यान विभाग ने 15 प्रतिशत अधिक अनुदान करने का निर्णय लिया है। पर्वतीय इलाकों में बेमौसम फल और सब्जी का उत्पात पॉलीहाउस की सहायता से करा जायेगा । इस योजना से 200 किसानों के परिवार को लाभ मिलेगा। जिसके बाद लाभार्थियों की संख्या बढ़ने पर योजना का दायरा बढ़ाया जायेगा।

क्वालिटी एजुकेशन के लिए परफेक्ट पसंद है हल्द्वानी का शैमफॉर्ड स्कूल

उत्तराखंड में बर्फ बनती जा रही आफत, बृहस्पतिवार के लिए मौसम विभाग की चेतावनी

पांच सौ से चार हजार वर्गमीटर तक भूमि में पॉलीहाउस बनाया जा सकेगा। पर्वतीय क्षेत्रों में माल ढुलाई और अन्य सुविधाओं को जुटाने में इस्तेमाल होने वाले धन की भरपाई उद्यान विभाग अतिरिक्त अनुदान देकर करेगा । इस योजना से कई पर्वतीय क्षेत्रों के किसानो के साथ परिवारों को भी आराम मिलेगा । दरअसल कई गरीब किसानों के परिवारों के जंगली जानवरो के डर से अपने खेतो में ही रहने और कभी-कभी खेतों में सोने की परेशानी से आराम मिलेगा ।

आम आदमी को मोदी सरकार की सौगात, अब 5 लाख रुपए इनकम तक नहीं देना होगा टैक्स

नैनीताल की डीएचओ भावना जोशी ने बताया कि पर्वतीय क्षेत्रों में संरक्षित खेत योजना में किसान भी रूचि दिखा रहे है। अब तक दो सौ से अधिक किसान परिवारों ने इस योजना के बारे में जानकारी प्राप्त करी है। भविष्य में ये योजना काफी फायदेमंद होगी । जिससे किसान के साथ प्रदेश को भी लाभ मिलेगा ।