हल्द्वानी: बलगम में रक्त आना खतरनाक बीमारी की ओर संकेत हो सकता है। ये समस्या अधिकतर  बुजुर्ग लोगों में देखने को मिली है जो  धूम्रपान करते हैं, उनमें चिंता का ही एक और कारण होता है। वहीं युवाओं में भी लगे के इंफैक्शन के चलते बलगम में खून आ सकता है। इसके लिए तुंरत डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है। वैसे खांसी में रक्त आने को चिकित्सा की भाषा में हैमोप्टिसिस कहा जाता है। आपको चमकीले लाल रक्त की थोड़ी मात्रा, या झागदार रक्तस्राव वाला कफ (लार और बलगम) के साथ खांसी हो सकती है। रक्त सामान्यतः आपके फेफड़ों से आता है तथा अक्सर लंबे समय तक खांसी होने या सीने में संक्रमण के कारण होता है।

यदि रक्त कालेपन में हो तथा उसमें भोजन के टुकड़े हों या कॉफी के तलछट जैसा दिखाई देता हो, तो यह आपकी पाचन प्रणाली से आया हुआ हो सकता है। यह एक अधिक गंभीर समस्या होती है। हल्द्वानी साहस होम्योपैथिक क्लीनिक के डॉक्टर नवीन पांडे ने बताया कि इस तरह की परेशानी होने पर डरने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए जिससे की शरीर में पानी की कमी ना हो। वहीं कठोर भोजन खाने से बचना चाहिए। उन्होंने बलगम में रक्त आने की परेशानी से निजात पाने के लिए होम्य़ोपैथिक दवाएं बताई जो रोगी को आराम देगी।