भगत सिंह कोश्यारी ने किया चुनाव लड़ने से इंकार: मीडिया रिपोर्ट्स

देहरादूनः लोकसभा चुनाव में एक माह का भी समय नहीं बचा है। जिसको लेकर हर एक पार्टी अपना मजबूत उम्मीदवार घोषित करना चाह रही है। तो वही कांग्रेस- भाजपा में करीब एक दर्जन से भी ज्यादा दावेदार सामने से टिकट की मांग कर रहे है। टिकट को लेकर जहां कांग्रेस शांत दिख रही है। तो भाजपा में भगत दा की चुनाव लड़ने से मना करने की खबर ने कई और दावेदार खड़े कर दिये।  भाजपा के लिए यह परेशानी और बढ़ गई है। क्योंकि नैनीताल लोकसभा सांसद भाजपा नेता भगत सिंह कोश्यारी ने चुनाव लड़ने से साफ इंकार कर दिया। भगत सिंह कोश्यारी ने खुद यह घोषणा कर दी है। पिछले ढाई साल से यह खबर खूब सुर्खियांं बटोर रही थी कि क्या भगत दा 2019 का चुनाव लड़ेंगे ? भगत दा की इस घोषणा ने प्रदेश नेतृत्व को हिला और उम्मीदवारों की भी संख्या बड़ाने का काम किया है। भगत सिंह कोश्यारी ने बताया कि अब यदि केंद्रीय नेतृत्व भी पूछेगा तो मेरा यही जवाब होगा। भाजपा के वरिष्ठतम नेताओं में शामिल कोश्यारी के इस फैसले से भाजपा के सामने बड़ा सवाल यह है कि यदि कोश्यारी चुनाव नहीं लड़ते तो उनकी जगह कौन लेगा?

नैनीताल लोकसभा सीट: 11 को मतदान, जनता की नजर पार्टी के बजाए उम्मीदवार पर

भगत सिंह कोश्यारी ने कहा  अब नए लोगों के लिए रास्ता खुलना चाहिए। नए लोगों को मौका देने के लिए ही मैंने यह निर्णय लिया है। कोश्यारी ने कहा कि, हम जैसे लोगों की जिम्मेदारी तो तब आती है जब संकट का वक्त है। जहां-जहां ज्यादा कठित होता है, वहां हमें जाना पड़ता है। जहां बाढ़ आ जाए, भूंकप आ जाए, भूस्खलन हो जाए, वहां नई पीढ़ी को जाने में कष्ट होता है। तब वहां हम जाते हैं। जहां आसानी से बात बन जाए, वहां हमारे जाने का क्या फायदा? अभी अच्छा माहौल चल रहा है। कोई भी खड़ा हो,वो आराम से जीत जाएगा।