हल्द्वानी में होगा अब कैंसर का ईलाज , जल्द मिलेगी मंजूरी

45

हल्द्वानीः अब जाकर हल्द्वानी में कैंसर इंस्टीट्यूट खुलने की उम्मीद जाग रही है। राजकीय मेडिकल कॉलेज की भूमि पर वन विभाग की आपत्ति निस्तारित हो सकती है। इसके लिए दो दिन पहले वन विभाग के अधिकारी निरीक्षण कर चुके हैं। इससे स्वामी राम कैंसर संस्थान के स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट बनने की उम्मीद भी जाग गई है। हालांकि, इसके लिए शासन स्तर पर 152 स्थायी पद स्वीकृत हो चुके हैं। अब चिकित्सा शिक्षा विभाग ने प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाने के लिए जोरशोर से तैयारी कर दी है।

मुखानी:रेस्ट्रो के नाम पर चल रहे हुक्का बार में छापा, नहीं मिला लाइसेंस

भारत सरकार के विशेष प्रोजेक्ट के तहत स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट बनाया जाना है। इसके लिए 120 करोड़ रुपये प्रस्तावित हैं। 90 फीसद बजट केंद्र व 10 फीसद बजट राज्य सरकार को देना है। स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट में 19 विभाग बनेंगे। इसके लिए 100 बेड जनरल और नौ बेड का आइसीयू बनाया जाना है। इसके लिए खाका तैयार हो चुका है।

हल्द्वानी में आयुष्मान कार्ड होने का बाद भी नहीं हुआ इलाज, युवक ने हॉस्पिटल में तोड़ा दम

वर्ष 1990 से वन भूमि में डॉ. सुशीला तिवारी चिकित्सालय बना। इसके बाद राजकीय मेडिकल कॉलेज व स्वामी राम कैंसर इंस्टीट्यूट के रूप में इसका विस्तार हुआ। 2010 तक यह संस्थान ट्रस्ट के अधीन संचालित था। संस्थान के मुखिया वन विभाग के अधिकारी हुआ करते थे। इसके बाद से इसे चिकित्सा शिक्षा विभाग को हस्तांतरित कर दिया गया। धीरे-धीरे विवाद बढ़ा। वन विभाग ने निर्माण कार्य पर आपत्ति लगा दी। इसके चलते इस संस्थान में तमाम प्रोजेक्ट अटक गए। अब एक बार फिर चिकित्सा शिक्षा व वन विभाग के बीच बातचीत चल रही है। डॉ. केसी पांडे, विभागाध्यक्ष, स्वामी राम कैंसर इंस्टीट्यूट ने बताया कि वन विभाग के अधिकारियों का निरीक्षण हो चुका है। इस निरीक्षण के बाद तमाम चीजें क्लीयर हो जाएंगी। स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट को बनाने के लिए जोरशोर से प्रयास चल रहे हैं। उम्मीद है जल्द ही काम भी शुरू करवा दिया जाएगा