DPS लामाचौड़ ने हर्षोल्लास से मनाया सत्य व धर्म की विजय का प्रतीक दशहरा पर्व

हल्द्वानीः भारत में दशहरा त्यौहार का बहुत महत्व है। दशहरा भारत में पौराणिक काल से ही मनाया जाता आ रहा है। दशहरा का पावन त्योहार असत्य पर सत्य की जीत होने की वजह से मनाया जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार जब रावण ने माता सीता का हरण कर लिया और उन्हें अपनी लंका में कैद कर लिया तो भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था। हर साल देश में एस त्योहार को बड़े ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है। 10 दिन तक चलने वाले दशहरा के पर्व में भारत में हर जगह रामलीला बनाई जाती है।

हल्द्वानी शहर में भी दशहरा का त्योहार धूम धाम से मनाया जाता है। वहीं डी.पी.एस हल्द्वानी लामाचौड़ के विद्यार्थियों ने असत्य पर सत्य की विजय एवं अधर्म पर धर्म की विजय का प्रतीक, दशहरा पर्व पूर्ण हर्षोल्लास से मनाया । कक्षा सातवीं के विद्यार्थियों ने रामलीला मंचन द्वारा सत्य व धर्मके प्रतीक राम की विजय और अधर्म के प्रतीक रावण के अंत को बहुत ही सुंदर ढंग से प्रस्तुत किया। सभी विद्यार्थियों ने रावण की प्रतीक अपनी बुराइयों को रावण के पुतले के साथ दहन कर अच्छाईयों को अपनाने का संकल्प लिया।

विद्यालय शैक्षणिक प्रमुख ने इस अवसर पर अपने संभाषण में राम के आदर्शों पर चलने की बात पर बल दिया। विद्यालय निदेशक महोदय ने भी इस अवसर पर अपनी-अपनी बुराइयों को दूर कर अच्छाइयों को अपनाने की सीख प्रदान की। सभी विद्यार्थियों ने इस कार्यक्रम के माध्यम से दशहरा पर्व की सीख एवं महात्म्य को समझकर अंगीकार किया।