हल्द्वानी में ये क्या हो रहा है, क्वारंटाइन सेंटर भेजने पर मरीजों ने जमकर किया हंगामा

हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल की ओपीडी बंद,मरीज हुए परेशान

हल्द्वानीः सुशीला तिवारी अस्पताल से एक और बड़ी खबर सामने आई है। जहां बिना लक्षण वाले मरीजों ने डिस्चार्ज होने के बाद क्वारंटाइन सेंटर भेजने का जमकर विरोध किया। कोरोना पॉजिटिव मरीजों ने शुक्रवार रात इमरजेंसी के बाहर करीब ढाई घंटे तक जमकर हंगामा किया। मरीज घर जाने की जिद पर अड़े हुए थे। मरीजों ने पुलिस-प्रशासन और एसटीएच प्रबंधन का विरोध करते हुए नारेभाजी भी की।

बता दें कि एसटीएच में लक्षण वाले और बिना लक्षण वाले कोरोना पॉजिटिव मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। दस दिन पूरे कर चुके बिना लक्षण वाले 40 मरीजों को क्वारंटीन सेंटर शिफ्ट किया जाना था। बताया जा रहा है कि बागजाला में 31 बिना लक्षण वाले मरीजों को भेजने को कहा गया। इसके बाद इन मरीजों को खाना खिलाकर रात लगभग पौने दस बजे नीचे लाया गया। कुछ मरीज बस में बैठे गए। इसी बीच एक मरीज ने क्वारंटाइन सेंटर जाने का विरोध शुरू कर दिया और नारेबाजी करने लगा। उसने बस में चढ़कर सभी को नीचे भी उतार लिया। एसटीएच में तैनात पुलिसकर्मियों ने मरीजों को समझाने का प्रयास किया मगर वे नहीं माने।

मामले की सूचना सीओ को दी गई। और कुछ ही देर में पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई। मेडिकल चौकी इंचार्ज ने समझाने का प्रयास किया तो मरीज उन्हीं को क्वारंटाइन के नियम समझाने लग गए। चौकी इंचार्ज ने हंगामा कर रहे मरीजों को माहौल खराब करने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी। चेतावनी मिलने के बाद 23 मरीज बागजाला क्वारंटाइन सेंटर जाने का तैयार हो गए। और उनको बस से भेज दिया गया। वहीं आठ अन्य मरीजों को वार्ड में वापस भेज दिया गया।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now