भनक भी नहीं लगी और हो गया KUMAUN UNIVERSITY में करोड़ों का घपला

नैनीतालः कुमाऊं विश्वविद्यालय में साल 2013-14 से लेकर 2016-17 यानी कुल तीन सालों के दौरान 20.31 करोड़ से ज्यादा की वित्तीय गड़बड़ी पकड़ी गई हैं। अलग-अलग वित्तीय वर्षों में बजट प्रविधान की तुलना में नियमों की अनदेखी करते हुए 15.94 करोड़ ज्यादा खर्च कर डाला। 

बता दें कि 2014-15 में विभिन्न संकायों में पढ़ रहे 4587 छात्रों का बीमा किया, लेकिन पुष्टि के लिए छात्रों की सूची और बीमा कंपनी का बिल दिखाने में विश्वविद्यालय के हाथ कांप उठे। यह पाया गया कि बीमा कंपनी को करीब 4.63 लाख का अनियमित भुगतान हुआ है। सरकार की ओर से कुमाऊं विश्वविद्यालय की साल 2013-14 से 2016-17 की ऑडिट रिपोर्ट में चौंकाने वाले खुलासे किए गए हैं। ठेकेदारों, कंपनियों को बगैर टीडीएस काटे भुगतान किया गया तो संस्थागत परीक्षा के आवेदन पत्रों की छपाई के लिए चयनित कंपनी को अधिक भुगतान विश्वविद्यालय ने कर दिया। 

विश्वविद्यालय के रोकड़बही व डे-बुक में धनराशियों को दर्ज करने में खामियां पाई गईं। अनुदानों की बगैर इस्तेमाल अवशेष 56.67 लाख की राशि खातों में गलत तरीके से अवरुद्ध मिली। बगैर अनुबंध और परफॉरमेंस सिक्योरिटी जमा कराए 6.44 लाख की खेल सामग्री खरीदी गई। विश्वविद्यालय के डीएसबी परिसर नैनीताल के कॉशनमनी खाते से निकाली गई 90 लाख व 40 लाख की राशि को रोकड़बही में दर्ज नहीं कराया गया। यही नहीं 237.61 लाख की अस्थायी अग्रिम निकाली गई धनराशि को विश्वविद्यालय ने समायोजित नहीं किया। 

इसके साथ 85320 रुपये, 72596 रुपये का अनियमित भुगतान भी मिला। वित्त अधिकारी के आवास में कामकाज के लिए दैनिक वेतन पर कर्मचारी रखकर 23400 रुपये का गलत भुगतान किया गया। उच्च शिक्षा प्रमुख सचिव आनंद बद्र्धन को उक्त ऑडिट रिपोर्ट कार्रवाई के लिए भेजी गई है।

ps-punjab kesari

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now