हल्द्वानी: नशे में मिला उत्तराखंड रोडवेज का परिचालक, यात्रियों के टिकट भी नहीं काटे

हल्द्वानी: नशे में मिला उत्तराखंड रोडवेज का परिचालक, यात्रियों के टिकट भी नहीं काटे

हल्द्वानी: लॉकडाउन के खत्म होने के बाद कुछ रूटों के लिए उत्तराखंड परिवहन निगम ने बसों का संचालन शुरू किया है। बसों में केवल 50 प्रतिशत यात्रियों को बैठाया जा रहा है और किराए में 70 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी की गई है। हालात खराब है लेकिन फिर भी रोडवेज के कर्मचारी लापरवाही कर रहे हैं। एक मामला सामने आया है जिसमें उत्तराखंड रोडवेज का परिचालक नशे में था और इस कारण से उसने कुछ यात्रियों के टिकट ही नहीं काटे, एक तरफ उत्तराखंड रोडवेज नुकसान होने का रोना रो रहा है दूसरी ओर उसके कर्मचारियों की कार्यशैली सवालों के घेरे में है।

जानकारी के अनुसार हल्द्वानी डिपो से सोमवार को बस जौरासी के लिए रवाना हुई। मंगलवार को वापसी के दौरान यात्रियों ने परिचालक को नशे में देखा। उन्होंने विरोध किया तो परिचालक हंगामा करने लगा। बस के रानीखेत पहुंचने के बाद सहायक महाप्रबंधक देशराज अंबेडकर ने जांच कराई तो तीन यात्री बिना टिकट के मिले और परिचालक नशे में था। इसके बाद परिचालक को पुलिस के हवाले किया गया और दूसरे परिचालक की व्यवस्था करने के बाद बस को हल्द्वानी के लिए रवाना किया गया।

इस मामले को लेकर मीडिया रिपोर्ट्स में बड़ी बात भी कही जा रही है। नशे में मिला परिचालक रोडवेज की एक बड़ी यूनियन का शाखा अध्यक्ष भी है, इस वजह से उसे बचाने के लिए बिना टिकट यात्रियों की संख्या को कम किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि बस में तीन नहीं बल्कि 12 यात्री बिना टिकट के थे। इस मामले पर मंडलीय प्रबंधक कुमाऊं यशपाल सिंह का कहना है कि हल्द्वानी डिपो की बस यात्रियों को लेकर जौरासी गई थी, वापसी में बस का परिचालक नशे की हालत में मिला और तीन सवारी बिना टिकट पाई गई। बिना टिकट 12 सवारियों के बारे में कोई जानकारी नहीं हैं, मामले की जांच चल रही है।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now