देश सेवा का जीता जागता उदाहरण है हल्द्वानी का यह परिवार, कल बेटा बनेगा सेना में अफसर

1996

हल्द्वानी: देश की सेवा करने का वरदान हर किसी को नहीं मिलता है। सेना में शामिल होने के लिए पागलपन होना जरूरी है, जिनके लिए उनका धर्म, कर्म और परिवार केवल सेना ही होती है। हल्द्वानी का एक ऐसा ही परिवार है जो पीढ़ियों से देश की सेवा कर रहा है।

Image may contain: one or more people, people standing, sky, tree, basketball court and outdoor

परिवार के बेटे (तीसरी पीढ़ी) को सेना में कमीशन मिली तो घरवालों के खुशी से आंसू निकल आए। हल्द्वानी हिम्मतपुर मल्ला निवासी रिटायर्ड सूबेदार भुवन चंद्र पाठक का छोटा बेटा यथार्थ 8 दिसंबर को देहरादून में होने वाली पासिंग परेड का हिस्सा बनेगा।  मूल रूप से पिथौरागढ़ जिले के संगौड़ दसौली का रहने वाले इस पाठक परिवार की दो पीढ़ियां देश की सेवा को अपना जीवन दे चुकी है।

Image may contain: 1 person, smiling

यथार्थ पाठक ने दिल्ली स्थित माउंट सेंट मेरी स्कूल से इंटर की पढ़ाई की। यूपीएससी की परीक्षा में पास होने के बाद साल 2014 में उसका चयन नेशनल डिफेंस एकेडमी में हुआ। देहरादून स्थित आईएमए में तीन साल की ट्रेनिंग के बाद शनिवार को यथार्थ सेना में अफसर बनेगा। बेटे के कंधों में स्टार देखने के लिए परिवार देहरादून पहुंच गया है। बेटे को सेना में भर्ती होने का पल किसी भी परिवार के लिए सुखद व गौरवान्वित होता है। यथार्थ को पासिंग परेड में देखने के लिए दादा-दादी, बहन और मां बीना पाठक और पिता भुवन चंद्र पाठक देहरादून पहुंच गए है।