हरिद्वार के डीएम दीपक रावत के खिलाफ दर्ज हुआ हत्या के प्रयास का केस

1831

 

 

हल्द्वानी: हरिद्वार के डीएम दीपक रावत पर हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ है। उन पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का भी आरोप लगाया गया है।  अधिवक्ता अरुण भदौरिया ने सीजीएम के यहां डीएम के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है। बता दे कि पिछले कई दिनों से अवैध खनन को लेकर स्वामी शिवानंद के शिष्य मृात सदन में अनशन कर रहे थे। उनकी हालात को बिगड़ता देख डीएम दीपक रावत ने उन्हें मृात सदन से अस्पताल ले जाने का आदेश दिया था। जिसका विरोध करते हुए वे बीते 25 दिसंबर को डीएम दीपक रावत के सम्मान समारोह में गये और वहां जाकर उनके विरोध में पर्चे बांटने लगे। उनका आरोप है कि डीएम दीपक रावत ने अपने गनर के साथ मिलकर उन्हें कमरे में कैद किया और उनके  हाथापाई के साथ उन्हें मारने की कोशिश की। जिसके बाद अधिवक्ता अरुण भदौरिया ने सीजीएम के यहां डीएम रावत के खिलाफ आईपीसी धारा 201, 295, 298, 323, 324, 325, 326, 307, 341 एवं 342 के तहत न्यायालय में मामला दर्ज करवाया है।जिसकी सुनवाई 27 जनवरी को होनी है।

हरिद्वार के डीएम दीपक रावत अपने कामों को लेकर अक्सर सुर्खियों पर रहते है। उन्होंने हरिद्वार में तैनात होने के बाद खनन माफिया, मेडिकल स्टोर और आईटीओ में हो रही नकारात्मक गतिविधियों में एक्शन लिया है। वो लोगों की शिकायत के बाद अक्सर चैकिंग पर निकल पड़ते है। नैनीताल में भी उनका यही काम लोगों की जुबां पर रहता था। इस खबर के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने अपनी राय देनी शुरू कर दी है। लोग ये भी कह रहे है कि जो अधिकारी ईमानदारी से काम करते है उन्हें सरकार इसी तरह से परेशान करती है।