अल्मोड़ा की हिमानी बिष्ट ने crack किया एसएससी एग्जाम, देश में हासिल किया पहला स्थान

देहरादून: सेना में पहले केवल पुरुषों के एकाधिकार वाला क्षेत्र समझा जाता था लेकिन समय के साथ ही जहां लोगों की सोच बदल रही है, वहीं देश के सर्वोच्च न्यायालय के मार्गदर्शन का परिणाम है कि आज सेना के दरवाजों को देश की बेटियों के लिए भी खोल दिया है। इसके फलस्वरूप अब उत्तराखंड की बेटियां भी भारतीय सेना का हिस्सा बनने लगी है।

ग्राफिक एरा की छात्रा हिमानी बिष्ट ने विश्वविद्यालय और राज्य का नाम रोशन किया है। आइटी सेक्टर में विश्व की दो बेहतरीन कंपनियों में नौकरी का ऑफर छोड़कर देशसेवा की राह चुनने वाली हिमानी ने शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) में देश में पहला स्थान हासिल किया है। उन्होंने यह स्थान एनसीसी स्पेशल वुमेन कैटेगरी में हासिल किया।

यह भी पढ़े:देहरादून से राहत भरी खबर, 11 जनवरी से शुरू होगा एक और ट्रेन का संचालन

यह भी पढ़े: जिला पूर्ति विभाग की ओर से कार्रवाई शुरू,शहर के 37 हजार फर्जी राशन कार्ड होंगे निरस्त

हिमानी बिष्ट अल्मोड़ा जिले के जैंती गांव की रहने वाली हैं। उनके परिवार में माता पिता और दो भाई बहन है। हिमानी की पढ़ाई आर्मी स्कूल से हुई है। बचपन से ही उन्होंने सेना का हिस्सा बनने का सपना देखा था और काफी पहले ही तैयारी शुरू कर दी थी।

उनके पिता भी सेना से रिटायर्ड है और मौजूदा वक्त में वह देहरादून में सर्वे ऑफ इंडिया में कार्यरत है। इनके अलावा उनकी माता एक ग्रहणी है। हिमानी ने ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी से बीएससी आईआईटी चुना फिर वर्ष 2018-20 में उन्होंने इसी यूनिवर्सिटी से एमसीएस किया। उन्होंने एनसीसी-सी सर्टिफिकेट से ए ग्रेड भी हासिल किया था,जिसके कारण उन्हें एनसीसी स्पेशल वुमेन कैटेगरी में यह स्थान मिला है।

यह भी पढ़े:जिले में रोजाना एक हजार लोगों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, पूरे राज्य में शुरू हुआ ड्राई रन

यह भी पढ़े:उत्तराखंड से उत्तर प्रदेश और हिमाचल के मार्गों पर निजी बसों के संचालन की तैयारी में विभाग

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now