ट्रेन के टॉयलेट से आ रही थी महिला के चीखने की आवाज,दरवाजा खुलने के बाद लोग हैरान

नई दिल्ली: सोशल मीडिया काम की चीज भी है जरूरत है इसके अच्छे इस्मेताल की। ट्रेन में एक युवक के ट्विट ने एक महिला की जान बचा ली। आज के दौर में लोग सोशल मीडिया इस्मेताल केवल टाइमपास के लिए करते है लेकिन यह उससे अधिक जानकारियों का स्रोत है। घटना मध्य प्रदेश के मंदसौर की है। बडोदरा-काटा पैसेंजर ट्रेन में एक ऐसा वाक्य हुई जिससे खूब बबाल हुआ।

खबर के मुताबिक ट्रेन में ईश्वर प्रजापति रतलाम नाम का व्यक्ति ट्रेन में सफर कर रहा था। इस बीच वो टॉयलेट की तरफ गया तो उसे एक महिला के चिल्लाने की आवाज आने लगी। उसे लगा कि महिला के साथ अंदर कोई है और उसे मारने की कोशिश कर रहा है। उसने दरबाजा खोलने की कोशिश की लेकिन वो नहीं खुला लेकिन महिला की आवाज लगातार अंदर से आ रही है। ईश्वर प्रजापति रतलाम समझारी का परिचय देते हुए अपना मोबाइल निकाला और ट्विटर पर भारतीयरेलवे को टैग करते हुए इस घटना की जानकारी दी।इसके बाद कुछ भीड़ वहां इकट्ठा हो गई और लोगों ने भी दरवाजा खोलने का प्रयास किया लेकिन किसी से वो दरवाजा नहीं खुला।

ट्रेन के शामगढ़ स्टेशन पहुंचने के बाद आरपीएफ एसआई कृष्ण शर्मा अपनी टीम के साथ पहुंचे। दरवाजा नहीं खुलने पर उसे तोड़ दिया गया । अंदर से जिस महिला की आवाज आ रही थी वो विक्षिप्त हालत में मिली। आरपीएफ ने उसे कोटा मंडल के हवाले कर दिया। लोगों ने बताया कि महिला कुछ ऐसे चिल्ला रही थी कि लोगों को लगा कि कोई उसका गला दबा रहा है और यात्रियों के सवालों के जवाब भी वो नहीं दे रही थी।

इससे यात्रियों को लगा शायद अंदर से कोई उसे पकड़े है और महिला की आवाज नहीं निकल पा रही। लोगों ने खिड़की से छांकने की कोशिश भी की लेकिन कुछ नहीं दिख पाया और स्थिति बिगड़ती जा रही थी। इस वजह से लोगों की शंका और बढ़ती जा रही थी कि कोई उसके साथ ज्यादती कर रहा है। महिला के बाहर निकलने तक ट्रेन में हलचल बनी रही। बताया जा रहा है कि यह मामला मंगलवार है।