नई दिल्ली। मुंबई के घाटकोपर में एक चार्टर्ड प्लेन क्रैश हो गया। बताया जा रहा है कि विमान में चार लोग सवार थे।  इस हादसे में 5 लोगों की मौत हुई है। मृतकों में एक पायलट, 3 पैसेंजर और एक राहगीर शामिल है। बताया जा रहा है कि विमान जिस समय क्रैश हुआ राहगीर उस जगह से गुजर रहा था। पायलट के अलावा इस विमान में दो टेक्निशियन भी बैठे थे, जिनकी मौत हुई है। दुर्घटना स्थल का दौरा महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने किया और इस हादसे पर दुःख व्यक्त किया। मरने वालों में दो महिलाएं भी शामिल हैं।

मृतकों में कैप्टन पी.एस राजपूत, कॉ-पायलेट मारिया जुबैरी, असिस्टेंट इंजीनियर सुरभि, एयरक्राफ्ट टेक्निशियन मनीष पांडे भी शामिल हैं। ये विमान मुंबई के घाटकोपर के सर्वोदय नगर इलाके में क्रैश हुआ है।बताया जा रहा है कि ये जुहू एयरपोर्ट की तरफ बढ़ रहा था, प्लेन जैसे ही क्रैश हुआ अचानक उसमें आग लग गई। विमान सीधा इलाके की जागृति बिल्डिंग के पास एक निर्माणाधीन बिल्डिंग पर गिरा।पहले इस तरह की खबर आई थी कि ये प्लेन यूपी सरकार का है, लेकिन बाद में सरकार की ओर से बयान आया कि ये सरकार यूपी सरकार का नहीं है। यूपी सरकार का कहना है कि उन्होंने ये विमान मुंबई की ही एक कंपनी UY Aviation Pvt Ltd. को बेच दिया था।

उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने आधिकारिक बयान में कहा है कि ये विमान 2014 तक उत्तर प्रदेश सरकार के पास था।लेकिन 2014 में ही बेचा गया था।

प्राथमिक सूचना के अनुसार, विमान परीक्षण उड़ान पर था और इसने दुर्घटनाग्रस्त होने से कुछ मिनट पहले जुहू हवाईअड्डे से उड़ान भरी थी। दुर्घटना के कारणों का पता नहीं चल सकता है। यह दुर्घटना एक निर्माणाधीन इमारत के परिसर में हुई।

परिसर में आमतौर पर चार दर्जन मजदूर काम करते हैं, लेकिन विमान के गिरने के दौरान मजदूर दोपहर का खाना खाने गए थे। विमान के गिरने से एक गड्ढा बन गया है।

विमानन विशेषज्ञ और एक्जक्यूटिव एयरवेज के प्रबंध निदेशक प्रदीप थम्पी ने कहा कि विमान 30 साल पुराना किंग एयर सी-90 था। इस विमान को कुछ साल पहले मुंबई की निजी कंपनी यूवाई एविएशन प्राइवेट लिमिटेड द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार से खरीदा गया था।

थम्पी ने आईएएनएस से कहा, “इसका कॉल साइन वीटी-यूपीजेड था और यह नियमित परीक्षण उड़ान पर था। इस हादसे में पॉयलट, सह पॉयलट व दो इंजीनियरों की मौत हुई है। हम तत्काल इस दुर्घटना के कारणों के बारे में नहीं बता सकते।”

उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने पुष्टि की कि मुंबई स्थित यूवाई एविएशन प्राइवेट लिमिटेड ने कुछ साल पहले विमान को खरीदा था।

केंद्रीय उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने हादसे पर ‘गहरा दुख’ प्रकट किया है और मंत्रालय के संबंधित अधिकारियों को फौरन दुर्घटनास्थल पर पहुंचने व सभी संभव मदद प्रदान करने निर्देश दिया है। सुरेश प्रभु मुंबई से हैं।

प्रभु ने कहा कि उन्होंने नागरिक उड्डयन महानिदेशक को दुर्घटना की जांच करने का आदेश दिया है और प्रारंभिक जांच के लिए एक दल दुर्घटनास्थल के लिए रवाना हो चुका है।

मुंबई पुलिस, दमकल विभाग, आपदा राहत एजेंसियों के अलावा स्थानीय भाजा सांसद किरीट सोमैया, विधायक व अन्य मौका स्थल पर पहुंच चुके हैं और पीड़ित चालक दल के सदस्यों और राहगीर के बारे में आगे के विवरण की प्रतीक्षा है।