ऑनलाइन ठगों पर भारी पड़ेगी जनता, नैनीताल पुलिस ने दी यह छह टिप्स

हल्द्वानी: आधुनिक ज़माने में इंसान को जितना सड़कों पर चलते हुए चोरों से बचना आवश्यक है, उतना ही ज़रूरी ऑनलाइन नज़र गढ़ाए हुए शातिरों पर ध्यान रखना भी है। एक गलत कदम और आपके खाते से मेहनत की कमाई की पाई पाई उड़ जाएगी। किसी भी अज्ञात के फोन कॉल पर अपनी बैंक डिटेल्स देना या फिर क्यूआर कोड को यूं ही स्कैन करना आपको भारी पड़ सकता है।

इन्हीं सब बातों पर नैनीताल पुलिस का खासा ध्यान है। पुलिस द्वारा लोगों को ऑनलाइन चोरी के प्रति जागरुक करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। इसी दिशा में नैनीताल पुलिस ने इन ठगों से बचने के लिए कुछ उपाय भी जनता से साझा किए हैं।

यह भी पढ़ें: बिन्दुखत्ता की ‘कंचन परिहार’ का कमाल, महिला वनडे टीम में बनी उपकप्तान

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी-बरेली रोड पर भीषण सड़क हादसा, एक ही परिवार के चार लोगों की मौत

1. कई तरह के पेमेंट एप इस समय लोगों के फोन में इंस्टॉल हैं। होता यह है कि एक भुगतान असफल होने पर, व्यक्ति गूगल से कस्टमर केयर नंबर निकालकर उसपर बात करना चाहता हैं। वहीं यह शातिर इंतज़ार कर रहे होते हैं। इसलिए आपको पेमेंट एप के ज़रिए ही शिकायत करनी है।

2. किसी के भी कहने पर अपने मोबाइल फोन में एनी डेस्क, टीम व्यूवर, स्क्रीन शेयर, एयर मिरर, एयर ड्रॉयड, क्विक सपोर्ट, क्यूएस, क्रोम रिमोट डेस्कटाप, रेमो ड्रॉयड आदि एप इंस्टाल ना करें। अथवा किसी के भी द्वारा ऐसा कहने पर अपने मोबाइल का नेट ऑफ कर दें।

3. आजकल ऐसा बहुत होता है कि फेसबुक या दूसरी सोशल मीडिया आइडी ब्लॉक कर शातिर ठग रिश्तेदारों से ही रुपए मांगते हैं। लेकिन आप बिना अपने रिश्तेदार से बात किए रुपए ट्रांसफर ना करें तो बेहतर होगा।

4. अपने एटीएम पिन को समय समय से बदलते रहें और सीवीवी पिन, गोपनीय पिन नंबर, एटीएम नंबर को किसी से भी साझा ना करें।

यह भी पढ़ें: पिथौरागढ़ की श्वेता वर्मा का टीम इंडिया में हुआ चयन,पापा के सपने को मां के संर्घष ने किया पूरा

यह भी पढ़ें: नैनीताल को मिली करोड़ों की सौगात,पार्किंग की छत पर बनेगा पहाड़ी फूड कोर्ट

5. फोन से पेमेंट करते वक्त किसी के भी द्वारा भेजे गए लिंक को क्लिक ना करें और ना ही क्यूआर कोड को स्कैन करें। वरना आपके खाते से पलों में धनराशि गायब हो जाएगी।

6. अगर कोई भी फोन कॉल पर खुद को बैंक का कर्मचारी बताकर आपसे केवाइसी यानी ग्राहक को जानो प्रक्रिया कराने का आग्रह करे तो यह ठग हो सकता है। क्योंकि इस तरह की प्रक्रिया कभी फोन पर नहीं होती। इस तरह के कॉल आने पर गोपनीय जानकारी नहीं दें।

नैनीताल की एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने बताया कि साइबर ठगी के मामलों में बढ़ोत्तरी हो रही है। इसी वजह से लोगों को सावधान व जागरूक होने की ज़रूरत है। नैनीताल पुलिस की ओर से लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: ढेर सारी बधाई….नेशनल मार्शल आर्ट्स चैंपियनशिप में मालकोटी गांव के बेटे ने जीता सिल्वर मेडल

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड रोडवेज बस ने बाइक सवार दंपत्ति को मारी टक्कर,महिला ने मौके पर तोड़ा दम

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now